‪#‎वोटविचार‬

– एक वोट कई विचार रखता है !

– बहुत सारे विचार हैं पर वो एक वोट भर भी नहीं हैं !

– आपके धर्म के साथ कुछ भी हो सकता है पर आपके वोट का कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता !

– वोट को कोई धर्म काट नहीं सकता / वोट को कोई धर्म लूट नहीं सकता / वोट को कोई धर्म छीन नहीं सकता / वोट को कोई धर्म बाँट नहीं सकता / वोट को कोई धर्म खरीद नहीं सकता / वोट को कोई धर्म बेच नहीं सकता / आपने किसको वोट दिया कोई धर्म जान नहीं सकता / वोट हर धर्म में गुप्त है !

– आप किसी के भी नौकर हो सकते हैं पर अपने वोट के मालिक हैं !

– आप नहीं भी रहें लेकिन आपका दिया हुआ वोट पांच साल तक रहेगा !

–  अठारह साल में मिली हर शक्ति क्षीण हो सकती है पर वोट देने की ताक़त जीवन भर ख़त्म नहीं होती !

– चाहे कोई किसी भी वोट बैंक में आपको रख ले आप अकेले वहाँ से सेंध मार के निकल सकते हैं !

– अपना वोट सवा सौ करोड़ का नोट !

लघु लोक कथा ‪#‎ललोक

तालाब के किनारे कोई चिल्ला रहा था ” कमल में किरण … कमल में किरण …” उत्साह में सब उस तरफ भागे … तालाब के बीचोबीच कमल के पास किरण फूट रही थी, देखने की हड़बड़ में कुछ लोग छप छप तालाब में गिर रहे थे … शोर सुनकर पंछी ‘ट्वीट – ट्वीट’ करने लगे … पोखर पर झाड़ियों के पीछे शेर के कान खड़े हो गए … उसने तालाब पर शिकार का झुण्ड देख लिया था … पानी में कमल के पास घड़ियाल की पीठ उगते सूरज में चमक रही थी !