दुखान्त‬

” कागा सब तन खाइयों मेरा चुन चुन खाइयो मांस,
दो नैना मत खाइयो मोहे पिया मिलन की आस “

ना जाने फिर उन दो आँखों का क्या हुआ ? उन आँखों ने अपने जिस्म दे कर भी मिलन की लालसा में अपनी पलकें बिछाए रखीं थीं !  सुना है नरभक्षी कौव्वे उन दो प्रेमी आँखों से सदियों तक बातें करते रहे और प्रेमी के इंतज़ार में उनका साथ दिया ! फिर एक दिन किसी कपटी कौव्वे ने बारी बारी से उन्हें छल लिया ! प्रेम से निकल के जाने वाले प्रेम में कब लौटे पाए हैं ?

 

emoticon

दस हज़ार फ़ीट की ऊँचाई पर उड़ते हुए हवाई जहाज़ में बैठा वो रो रहा था ! खिड़की से बाहर देखते हुए बुदबुदा रहा था ! ” तैरते हुए बादलों में मैं तुम्हें मुक्त कर रहा हूँ ” बगल की सीट पर बैठा मैं बस इतना ही सुन पाया ! वो और भी बहुत कुछ बड़बड़ा रहा था और लगातार रो रहा था ! बहुत देर बाद वो शांत हुआ ! मैंने अपने बैग से निकाल कर उसे एक ऑरेंज दिया ! ऑरेंज के छीले और खाये जाने तक हम चुप रहे ! आकाश बैंगनी हो गया था ! रन वे पर हवाई जहाज़ के लैंड करने तक मुझे उसकी प्रेम कहानी समझ में आ गयी थी ! कहानी बहुत सिंपल थी ! वो भावुक था ! रिश्ता वर्चुअल था ! लड़की प्रैक्टिकल थी ! वर्चुअल प्रेम से ऊब कर किसी और मर्द के साथ शरीर के असली सुख के लिए चली गयी थी ! लड़के को प्रेम में धोखा मिला था और उसका दिल चूर चूर हो गया था ! लड़का अपनी भावनाओं में जी रहा था और लड़की सच में जी रही थी ! उसने डबडबाई आँखों से मुझे एक बार देखा और नज़रें झुका लीं ! ” मैंने उसे माफ़ कर दिया है ” कन्वेयर बेल्ट के पास से चलते हुए उसने मुझसे बस इतना कहा ! मेरा दिल भर आया ! उसकी आँखों में गज़ब की शिद्दत थी ! अपने अपने सच के साथ प्यार में सब सुंदर होते हैं ! वो जिसके प्रेम में क़ैद था, वो उसके गिरफ्त से बाहर चली गयी थी ! वो प्रेम की पीड़ा में मुक्ति की छटपटाहट के लिए तड़प रहा था ! सबके अपने रीजन होते हैं, उनके अपने रीज़न होंगे ! उसकी वेदना निजी थी ! काश वो जल्द से जल्द इस दुःख से निकल पाये ! वो जिस भीड़ में खो गया मुझे अपनी दुनियाँ उसी भीड़ से ढूंढ के निकालनी थी ! मुझे घर ले जाने के लिए मेरी पत्नी बाहर इंतज़ार कर रही थी ! एक पल के लिए मैं भी प्रेम के रहस्यमय संसार में खो गया था ! इस यात्रा के लिए मैं उस अंजान प्रेमी का आभारी था और उस अनदेखी अनजानी प्रेमिका का भी ! हम फिर कभी नहीं मिले … 

भीड़ वाली सेल्फ़ी

दोस्तों की उछलकूद है भीड़ वाली सेल्फ़ी / अपने ही आसपास दोस्तों के साथ कहीं भी बन जाती है भीड़ वाली सेल्फ़ी / भीड़ वाली सेल्फ़ी खींचने के लिए कोई दोस्त फ्रेम से बाहर नहीं जाता / दोस्त दोस्त के बीच में ही खिंच जाती है भीड़ वाली सेल्फ़ी / दोस्तों के बीच बहुत पॉपुलर है भीड़ वाली सेल्फ़ी / शार्ट नोटिस पर कोई अचानक ले लेता है भीड़ वाली सेल्फ़ी / जब तक आप कपडे, बाल, मुस्कुराहट ठीक करते हैं, क्लिक हो जाती है किसी दोस्त की मोबाइल में भीड़ वाली सेल्फ़ी / देर रात किसी के वॉल पर अचानक उग आती है भीड़ वाली सेल्फ़ी / जिसका हाथ लम्बा होता है वही लेते हैं भीड़ वाली सेल्फ़ी / आवाज़ देना न भूलें, जब भी कोई ले रहा हो भीड़ वाली सेल्फ़ी / कोई रह न जाये फ्रेम से बाहर जब आप ले रहे हों भीड़ वाली सेल्फ़ी … /
अकेलेपन का हाहाकार है, अकेले ली गयी कहीं भीड़ से बाहर स्वयं की सेल्फ़ी …

साइलेंट मोड में …

चेहरे पर कोई सेवन बना दे या ऐट बना के मेरा मन अनलॉक कर दे या जेड बना दे उँगलियों से और खोल दे मेरे सारे विंडो या एक बार मेरे चेहरे की स्क्रीन पर हाथ फेर के लॉक अनलॉक कर दे मुझे और यूँ ही पड़ा रहने दे साइलेंट मोड में …

प्रार्थना

उसके रिज्यूमे को पढ़ा जाए ! नौकरी की चिंता में जाग जाग के उसे अपनी रात न खराब करनी पड़े ! फ़िज़ूल की नेटवर्किंग से ईश्वर उसे बचा ले ! काम देने के बहाने उसके हर पोस्ट और प्रोफाइल को लाइक करने वालों से उसे झूठी मुस्कराहट के साथ चैट न करना पड़े ! नौकरी की तलाश में हर लड़की को तत्काल नौकरी मिले, ईश्वर से आज मेरी सुबह की यही प्रार्थना है !

हृदयनामा

1.

मैंने अपने ह्रदय का एक चक्कर काट के देख लिया है कुछ भी सही नहीं है ! रक्त चाप, धड़कन और ह्रदय की गति सब अपनी मर्ज़ी के मालिक हैं ! अपने ह्रदय के अलग अलग हिस्सों में मैं बिलकुल अलग अलग हूँ ! मेरा ह्रदय जब कमज़ोर होता है तो मैं घमंडी और अकड़ू हो जाता हूँ ! मेरा अहम फूल जाता है और मेरी आँखों को ढक लेता है ! अपने ही ह्रदय से बात करने के लिए मुझे अपने ह्रदय के दस चक्कर लगाने पड़ते हैं ! ह्रदय के आकार का ह्रदय पृथ्वी और आकाश के आकार का हो जाए तो बड़ा नहीं होता ! ह्रदय को बड़ा होने के लिए उसे ह्रदय के आकार का बने रह कर ही अपने अंदर पृथ्वी और आकाश जितना बड़ा होना पड़ता है ! ह्रदय को ह्रदय रखने के लिए मुझे अपनी किडनी, फेफड़े, छोटी बड़ी आँत, नाक, आँख, कान, चमड़ी, घुटने और अपने दुसरे सभी अंगों से मिल कर रहना पड़ता है ! पर मेरा ह्रदय कमज़ोर है और मैं अपने शरीर में ज्यादा रह नहीं पाता हूँ ! मेरे दिमाग के घोड़े मुझे अपनी बुद्धि के कोल्हू में बैल बना कर घुमाते रहते हैं ! मेरा ह्रदय कहीं का सम्राट नहीं है ! मैं अपने ही ह्रदय में बायीं तरफ से कोई और हूँ और दायीं तरफ से कोई और क्यों हूँ ? मैंने आज अपने ह्रदय में एक नकली कारखाना पकड़ा ! संदेह और शंका की फैक्ट्री क्या मेरा ह्रदय मुझसे पुछे बिना चला रहा था ? अपना ये डिफेक्टिव ह्रदय श्री राम जी के कदमो में रखने से डरता हूँ …

2.

हृदय से निकली आवाज़ को माइक्रोफ़ोन नही चाहिए और न ही कोई स्पीकर ! शब्द भी चाहें तो हृदय की अावाज़ को अकेला छोड़ सकते हैं ! हृदय की अावाज़ की अपनी भाषा है और अपनी फ्रिक्वेंसी ! हृदय की अावाज़ किसी मीडियम की भी मोहताज नहीं …

 

आलसी

फोन की घंटी बजने लगी, आलसी के दिमाग में शब्द घनघनाने लगे ! आलसी बोलने के लिए ‘हेलो’ शब्द चुने या ‘हाय’ ये सोचता ही रहा और फोन कट गया ! अब कौन मिस्ड कॉल में जाए और री – डायल करे ? आलसी ने आँखें मूंद लीं ! आलसी की नींद आलस्य त्याग के नाश्ते के टेबल पर जा बैठी है ! आज आलसी को लिखना है ! आलसी उठा, शब्दों को उठाया और खुद सो गया ! उनींदे शब्द पास रखे मोबाइल में घुस गए ! आलसी की मुसीबत बढ़ गयी ! आलसी अब जब भी शब्द ढूंढेगा उसे सेटिंग्स में जाना होगा, अंग्रेजी को हिंदी फॉण्ट में बदलना होगा, जो शब्द चाहिए उन्हें की – बटन पर टाइप करके निकालना होगा ! इससे अच्छा आज वो नहीं लिखेगा ! और बहुत जरुरत हुई तो कट पेस्ट से काम चला लेगा ! आलसी की प्रेमिका एक चुस्त लेखक से आँख लड़ा रही है इस दुःख ने आलसी को और भी आलसी बना दिया है …

डिअर डायरी

मेरी सात महीने पुरानी डायरी खो गयी है ! मेरी बातचीत और बहस से भरी मेरी निजी डायरी जिसके हर पन्ने में मेरे अक्षरों के निशान हैं ! मेरी डायरी के चेहरे पर मेरा नाम,पता फोन नंबर और ई -मेल आई डी सब है ! मेरी डायरी अगर किसी आम आदमी को मिली होती तो वो जरूर लौटा देता ! मुझे लगता है मेरी डायरी किसी लेखक के हाथ लग गयी है ! वो सब अनदेखा कर के उसे अब पढ़ रहा है और अपनी जेब में रखकर मेरी डायरी को शहर घुमा रहा है ! लेखक महोदय मेरी डायरी में तुम कुछ लिख नहीं पाओगे क्योंकि उसमे मैंने इतना कुछ लिख दिया है कि उसे पढ़ते हुए तुम अपना कुछ भी लिखना भूल जाओगे ! मेरे अक्षर तुम्हारे किसी काम नहीं आएंगे और तुमको वो डायरी बिना कुछ लिखे मुझे लौटा देनी चाहिए ! मेरी डायरी एक दिन तुम्हारे जेब से गिर जाएगी और कोई न कोई उसे मुझ तक पहुंचा देगा ! किसी और की डायरी को पढ़ने के गिल्ट से तुम कभी निकल नहीं पाओगे !
डिअर डायरी, तुम जहाँ भी हो खुश रहना ! तुम नहीं हो तो मेरे दिन,रात और साल महीने में अब कोई फर्क नहीं है …

सलीब पर कोई टँगा है

मैं देख रहा था सलीब पर कोई टँगा है जिसके दुःख की कोई सीमा नहीं है ! उसके दोनों खुले हाथों को और उसके दोनों पाँव को समेट कर सलीब पर लोहे के मोटे – मोटे कील से ठोक दिया गया है ! आसूँ और खून से सलीब सना हुआ है ! दर्द से आँखें पथरा गयी हैं ! छलनी बदन से खून टपकना भी बंद हो चूका है ! पर ह्रदय अपार करुणा और प्यार से भर गया है ! उसने सबको माफ़ कर दिया है …

रीसायकल नींद

नींद टूट गयी ! टूटी हुई नींद किसी के काम नहीं आती ! लोग उठने से पहले टूटी हुई नींद को एक बार जोड़ने की कोशिश जरूर करते हैं ! पर हार के कभी तकिये के पास या पलंग के नीचे छोड़ के उसे भूल जाते हैं ! बिस्तर झाड़ते हुए या कमरे की सफाई करते हुए फिर कभी उनकी तरफ कोई नहीं देखता ! हफ़्तों और महीनों की टूटी हुई नींद पड़े पड़े अपने आप हवा में घुल जाती हैं और धीरे धीरे किसी की नयी नींद से जुड़ जाती हैं …