हवा की खेती

हवा

हवा की खेती एक लोकप्रिय खेती है ! इस खेती को करने का संकल्प ही इसका बीज है ! हर साल जब हम इकठ्ठे होकर लालकिले पर तिरंगे को लहराते हुए देखते हैं तो एक ‘हवा’ बनती है !

सूखे खेतों में खेती का बंपर उत्पादन ही हवा की खेती है ! हवा की खेती के तहत ग्रामीण इलाकों में सिंचाई, क़र्ज़, बिजली, प्राथमिक शिक्षा, चिकित्सा सेवा, सड़कों का निर्माण, आदि बुनियादी ढांचे के ‘विकास की हवा’ की पैदावार होती है !

सांप्रदायिकता हमेशा आधुनिक समाज के लिए खतरा होगी इसीलिए हवा जरुरी है ! बिना विचार हवा नहीं बहती ! नास्तिक, कम्यूनिस्ट, आंबेडकराइट, लोहियाइट, सावरकराइट सब हवा के फसल हैं ! गली – चौराहों पर रखी तरह तरह की मूर्तियाँ हवा के बीज हैं !

हवा की खेती शहरी खेती है ! हवा की खेती करने वाला किसान सिर पर मटमैली पगड़ी नहीं बाँधता ! हवा के किसान की फसलें साल के बारहों महीने लहलहाती हैं ! अपनी कुंठा, बेचैनी, बेबसी और लाचारी से बचने के लिए लोग इस हवा का सेवन करते हैं !

भारत जैसे एक बहु – धार्मिक समाज में, एक धर्म के सामान्य धर्मनिरपेक्ष हित दूसरे धर्म के अनुयायी के हितों से भिन्न और भिन्न हैं इसीलिए यहाँ हवा की खेती होती है ! सांप्रदायिक वातावरण में हवा की खेती राजनीतिक व्यापार है !

हवा के खेती में विभिन्न धर्म या विभिन्न समुदायों के अनुयायी के हितों को पूरी तरह से असंगत, विरोधी और शत्रुतापूर्ण माना जाता है ! हवा के बीज़ खुले तौर पर टीवी पर और फेसबुक जैसे सोशल मीडिया पर सभी धर्मों के संस्थानों में मिलते हैं !

हर कोई हवा की खेती के माध्यम से राष्ट्र को बदलना चाहता है ! हवा की खेती करने वाला किसान फार्मर कम फ़ासिस्ट ज्यादा होता है ! हवा की खेती करने वाला किसान मीडिया को नियंत्रित करता है ! सांप्रदायिक हिंसा हवा की प्रसिद्ध फसल है !

हवा की खेती की ताकत आलोचना में है ! हवा की खेती से कोई भी खुद को को एक व्यापार – प्रेमी, निवेशक – अनुकूल प्रशासक, एक करिश्माई नेता के रूप में पुनर्निर्मित कर सकता है ! भारत के सबसे विवादास्पद राजनीतिज्ञ हवा की खेती के सबसे महंगे फसल होते हैं !

हवा की खेती केवल ऑनलाइन, सोशल मीडिया और डिजिटल मार्केटिंग के माध्यम से होती है ! जो मिडिया पर अपनी पकड़ रखते हैं और टेलीविजन देखते हैं वो हवा की खेती की हर फसल को पहचान सकते हैं ! हवा की खेती देश की सेवा में होती है और हर एक नागरिक की सेवा में होती है !

रोजगार और विकास की हवा हवा की खेती की सबसे अच्छी और उन्नत किस्म है ! दलित हवा को दंगा कराने और आग लगाने का जन्मसिद्ध लाइसेंस मिला है ! अल्पसंख्यकों के खिलाफ जो हवा बनती है वो व्यक्तिगत डोमेन में बहती है !

विकास की देशव्यापी हवाओं को जोड़ने की योजना पर काम चल रहा है ! देश भर में हवा संकट का राग अलापते हुए सरकार ने देश भर में विकास की हवा को आपस में जोड़ने का लुभावना हवाई प्रस्ताव जनता के सामने छोड़ दिया है !

लाखों और करोड़ो लोगों के प्रयास से एक हवा बनती है ! ‘विकास की हवा’ एक राष्ट्रीय संसाधन है ! महत्वपूर्ण बात ये है कि किसी भी क्षेत्र में उपलब्ध ‘विकास की हवा’ के उपयोग की प्राथमिकताएँ सोच विचार कर तय होनी चाहिए और ‘हवा’ की उपलब्धता के अनुकूल ही उपयोग का नियोजन होना चाहिए !

हवा की ही हवा बन रही है ! विश्व बैंक की एक रिपोर्ट के अनुसार विकासशील देशों में विकास के हवा की भारी किल्लत है ! विरोधी लहर हवा की खेती का सबसे बड़ा दुश्मन है !

यदि आप हवा की खेती में शामिल होना चाहते हैं, तो वस्तु के बजाय, अपनी शिक्षा और नेटवर्क का उपयोग करें ! हवा की खेती में क्रांतिकारी बदलाव के लिए हमारे देश को वास्तव में युवाओं की ज़रूरत है !

बूँद बूँद हवा से ही अफ़वाह भी बनती है, जो अच्छी हवा की फसल को नष्ट कर देती है ! जब तक हम अपनी वैचारिक जनसंख्याँ – वृध्धि पर जल्द से जल्द लगाम नहीं लगाते तब तक भारत में हवा की खेती का भविष्य उज्जवल है !

संकट काल में हवा की खेती देश का संकट दूर करता है ! विकास की हवा जिन्दगी के साथ भी, जिन्दगी के बाद भी !

विश्वसनीय चेतावनी : कृषि का अभ्यास न हो तो हवा की खेती न करें !

Tagged , , , , , , , . Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *