गुब्बारे में क्या था ?

गुब्बारे में क्या था ?

‘ गुब्बारे में क्या था ? ‘ पत्नी ने जब पूछा तो मेरी इन्द्रियाँ वातावरण सूंघने लगीं ! पत्नी ने ऐसे पूछा जैसे मैंने कोई बैंक लूट लिया हो और गुब्बारे में भर कर घर ले आया हूँ !
‘ क्या था गुब्बारे में ? ‘ मैंने भी पलट कर पूछ लिया ! किसी रिफ्लेक्स एक्शन की तरह ये रिफ्लेक्स प्रश्न था !
‘ तुम पर जो फूटा है उस गुब्बारे में क्या था ? पत्नी ने सख़्ती से पुछा !
‘ मुझ पर जो फूटा है उस गुब्बारे में क्या था ? मैंने भी आश्चर्य से पुछा !

इस बार होली के गुब्बारे में कहीं किसी पर उम्मीद की किरण फूटी थी तो कहीं किसी की किस्मत ! पता नहीं मेरे गुब्बारे में क्या भरा था ? मैं तेजी से सोचने लगा ! गुब्बारा तो मुझ पर फेंका गया था, पर मेरी पत्नी के तेवर से लगा जो मुझ पर फेंका गया था वो उस पर फूट पड़ा है !

मेरी शादी उसी लड़की से हुई है जिस पर मैंने अपने कुँवारेपन में जीवन का पहला और आखरी गुब्बारा फेंका था ! इस पल जो नाक और भौं चढ़ा कर मेरे सामने खड़ी थी मैंने उस पर इत्र और गुलाब जल भरा गुब्बारा फेंका था ! पच्चीस साल बाद पता नहीं कौन सा गुब्बारा मुझ पर फूटा है ! मेरा सफ़ेद बुशर्ट जो पीछे से लाल हो चूका था मेरे सामने था !

‘ ये लाल दाग़ किसी रंग का तो नहीं लगता है ? ‘ पत्नी ने कहा ! गुब्बारे में क्या था इस पर गहन शोध की ज़रूरत इस होली से पहले शायद न आई हो ! अब मेरी पत्नी हर दाग और उसकी छींटों को और क़रीब से देख रही थी, साथ ही साथ रंग, खुशबू और बदबू सभी का आकलन कर रही थी ! ‘ अनार का रस ? ‘ गाढ़े लाल दाग़ को देखते हुए मैंने पत्नी की तरफ़ देख कर पूछा ! ‘ अनार का रस ? ‘ पत्नी ने ऐसे पूछा जैसे उसने सांप देख लिया हो और मुझे वो दिखाई नहीं दे रहा हो ! लाल रंग देख कर मुझे लगा गुब्बारे में अनार का रस भरा था ! मैंने सोचा क्या पता मुझ पर गुब्बारे फेंकने वाले को पता हो कि मैं बीमार हूँ ! मेरी सेहत की फिक्र में उसने गुब्बारे में अनार का रस भर के मुझ पर फेंका हो ! क्या मेरे गुब्बारे में अनार का रस भरा था ?

‘ ये सफ़ेद दाग क्या है ? ‘ सहसा पत्नी चीखी मानो किसी तरल पदार्थ से भरा गुब्बारा घर में उस पर फट गया हो ! क्रोध अगर तरल पदार्थ के रूप में भरा जा सकता तो मेरी पत्नी गुब्बारे में भरी हुई मिलती !

‘ सफ़ेद दाग ? ‘ मैंने भी सवाल दोहरा दिया ! ‘ हाँ – हाँ सफ़ेद दाग ‘ सुनते नहीं क्या ? कान पर कोई गुब्बारा तो नहीं पड़ा है ? पत्नी चिंतित होते हुए बोली ! मुझे पता नहीं क्या हो गया था ! इस होली में मैं लोगों के व्यवहार से गूंगा बहरा ही हो गया था ! मैं अवाक था ! ‘ लाल को अनार कहा, सफ़ेद को माखन मत कह देना ! ‘ पत्नी बड़बड़ा रही थी ! ‘ तुम पर तो कोई अपना काला – धन भी फेंक देगा तो तुमको पता नहीं चलेगा ! ‘ माखन, काला धन ? ‘ मैं चौंका ! क्या मेरे गुब्बारे में किसी का माखन भरा था ?

कल तक माखन एक दुग्ध – उत्पाद था ! गुब्बारे में आज का माखन एक यूथ – उत्पात है ! ‘ माखन रूपी काले धन ‘ को पानी से मिलाया जाए तो क्या होता है ? सर्च इंजन ने बताया ‘ माखन रूपी काले धन’ को अगर पानी में मिलाया जाए तो ‘काला धन’ गाढ़ा हो कर ‘लिक्विड’ फॉर्म में रह सकता है ! पर कई नागरिकों ने कहा कि ‘ माखन ‘ से ‘ काले धन ‘ को इकट्ठा कर गुब्बारे में भरना मुमकिन नहीं और इसके लिए कई दिन तक ‘ काला धन ‘ जमा करते रहना होगा और गुब्बारा भरने लायक ‘ काला धन ‘ जुटाने में कई महीने के ‘ माखन ‘ लग जाएंगे ! माखन और काला धन के चक्कर में मेरे दिमाग का मंथन हो गया ! मुद्दा और पेचीदा तब हो गया जब ये पता चला कि सरकार की नज़र भी ‘काले धन’ पर है और ‘काले धन’ का भी बैंक होता है !

‘ भोले मत बनो ‘ पत्नी ने झूठ बोले कौआ काटे वाली अदा में कहा ‘ तुम्हे हर रंग का मतलब पता है ! दिन भर ‘ केसरिया केसरिया ‘ ठुमरी गाते हो ! मैं जानती हूँ ‘ हरा रंग ‘ मेरी सौत है ! असली माखन चोर तो तुम ही हो ! कहीं कोई गोपी उलाहना देने न चली आये ‘ तुम्हारे लाल ने मुझ पर माखन फेंका है ! ‘ मैंने देखा मेरी पत्नी पर फाग चढ़ गया है ! माखन – माखन करती गज़ब की सूंदर गोपी लग रही थी ! मेरे अंदर गुब्बारे फूटने लगे जिनमे मैंने पच्चीस साल पहले इत्र और गुलाब जल भरा था ! आज की गोपियाँ माखन का हर स्वाद जानती हैं ! ताजा माखन मधुर, हलका, नेत्रों को हितकारी, रक्त पित्त नाशक, तनिक कसैला और तनिक अम्ल रसयुक्त होता है ! बासी माखन खारा, चटपटा और खट्टा हो जाने से वमन, बवासीर, चर्म रोग, कफ प्रकोप, भारी और मोटापा करने वाला होता है ! गोपियाँ जानती हैं बासी माखन सेवन योग्य नहीं ! गोपियों को कन्हैया को जो भाता है वही ताज़ा माखन पसंद है ! इस वैचारिक मंथन से मेरे शरीर में कम्पन होने लगा !

मुझ पर जो फूटा है उस गुब्बारे में क्या था, ये साबित होना बाक़ी है ! उधर, सड़कों पर गुब्बारे पड़ना जारी है ! लड़के भी फेंक रहे हैं और लड़कियां भी ! मैंने सुना लोग एक – दूसरे से कह रहे हैं ‘ गुब्बारा मारने से पहले बता दो भई तुम्हारे गुब्बारे में क्या भरा है ?

Tagged , , , , . Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *