गलत होने पर स्वंय को सही साबित करने की कला

गलत होने पर स्वंय को सही साबित करने की कला को मन की बात कहना सही नहीं होगा !
गलत होने पर स्वंय को सही साबित करने की कला में माहिर होने के लिए सिर्फ मन की बात भर कह देने से कुछ हासिल नहीं होता, इस कला में महारत के लिए ज्यादा प्रयास करने पड़ते हैं ! इस कला में माहिर होने के लिए पहले गलत होना पड़ता है, यही इस कला की सबसे बड़ी खूबी है !

आने वाले चुनाव के मतदान से अड़तालिस घंटे पहले तक ही हम लोकतंत्र के नागरिक होंगे ! अपने गर्म लोकतांत्रिक विवेक पर हथोड़ा मारने के अड़तालिस घंटे पहले हमें सोशल साइट्स से अलग कर लिया जायेगा ! स्वतंत्र भारत में अड़तालिस घंटे तक के लिए हम किसी के फैसले के क़ैदी बना लिए जायेंगे ! मतदान से अड़तालिस घंटे पहले गूगल, फेसबुक और ट्विटर बंद करेंगे चुनाव आयोग !

अब इसमें गलत क्या है ? सब जानते हैं आज के फ़िज़ूल इंटरनेट से देश के गरीब नागरिकों का पेट नहीं भर रहा है ! ऐसी बेरोज़गारी के आलम में अड़तालीस घंटे की छुट्टी लोकतत्र की सबसे बड़ी आज़ादी मानी जाए ! दो दिन का पेड हॉलिडे किसे अच्छा नहीं लगेगा ! न इंटरनेट होगा न कोई खर्चा करने की जरुरत पड़ेगी ! दुःख की बात होगी कि हमारे पास स्वतंत्रता के सिर्फ अड़तालिस घंटे होंगे !

अड़तालीस घंटे से सोये हो अब उठो ! मेरी पत्नी ने मुझे झकझोर के उठाया ! देखो तुम्हारी पार्टी जीत गयी है ! उफ़, कितना बुरा सपना था ! गलत होने पर स्वंय को सही साबित करने को यूँ ही कला नहीं कहा जाता है !

Tagged . Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *