महानगर में खिंचा – खींची / महालोक – २२

आँख से तो कोई कुछ देखना ही नहीं चाहता सबको मोबाइल कैमरे में सब खींच के किसी और को दिखाना है ! जिसके लिए ये सब किया जाता है वो भी मोबाइल कैमरे में सब कुछ किसी तीसरे के लिए खींच रहा है ! फोटो की खिंचा – खींची में दृश्य की असली तस्वीर मन की आँख से ली ही नहीं जाती … हम देखते ही रह जाते हैं …

Tagged , , , , , , , , . Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *