Parellel Cut – सत्यमेव जयते

220px-Emblem_of_India.svg_ ‘सत्यमेव जयते’ के एपिसोड देखता हूँ और दुसरे ब्लोग्स पर अपने मित्रों की टिप्पणियां भी पढता हूँ ! ये मेरे व्यग्तिगत विचार हैं या देखे गए हर एपिसोड पर मेरी टिप्पणी भी कह सकते हैं ! Parallel Cut में इसे मैंने सत्यमेव जयते के स्लोगन के तौर पर भी लिखा है ! सभी स्लोगन उस दिन का मेरा फेसबुक स्टेटस भी रह चूका है !

Parallel Cuts

अरे आप तो पहले एपीसोड में ही रो दिए…

– cut to

चलिए आप ने बताया हम मान लेते हैं ! पर अब इसके बाद …?

– cut to

ट्रिंग… ट्रिंग… ट्रिंग… !

दस (1 0 ) नौ ( 9 ) आठ ( 8 )

बच्चों रखो इसको याद !

ट्रिंग… ट्रिंग… ट्रिंग…

– cut to

‘सत्यमेव जयते’ सिक्के के एक पहलु पर लिखा होता है …और हर सिक्के के दो पहलु होते हैं !

– cut to

पता नहीं किस बात पर आमिर के साथ शर्म से रोना पड़े इस बार…

– cut to

‘दुल्हन ही दहेज़ है’ ये स्लोगन भी एक साजिश ही है ! दुल्हन के साथ दहेज़ शब्द का इस्तेमाल अज्ञानता है !

– cut to

अपना health पराया wealth !

– cut to

संडे – मेव – जयेते !

– cut to

सीढ़ी हो तो रेम्प हो ! … चाहे अपना ही set  क्यों न हो ?

– cut to

खाएँ ‘सत्यमेव जयते’ के डंडे …संडे के संडे !

– cut to

खाएं या न खाएं … संडे के संडे … सत्यमेव जयते के डंडे ?

– cut to

जात न पूछो नागरिक की !

– cut to

रोते रहते सत्यमेव जयते…

– cut to

काश मेरा भी कोई ‘जन कल्याण सहयोगी’ होता जो मेरे ‘सत्य’ के लिए लड़ता !

– cut to

सत्यमेव जयेते ‘चित’ हो गया रूपया ‘पट’ हो गया !

– cut to

सत्य के पूछ – ताछ की लड़ाई आज समाप्त हो जाएगी …

– cut to

बाहर से लोग आते रहे, बताते रहे, सिसकते रहे ! लगा अब लडेगा… अब लडेगा …बाहर निकलेगा सबको धराशायी कर देगा, हीरो जो है ! पर आज पता चला की करार सिर्फ बात करने का था …उकसाने का था, अंदर ही स्टूडियो में ! शब्द दिए गए थे उनको बोलना भर था ! बैक – ग्राउंड में संगीत बजा, एडिटिंग हुई, क्लोजअप्स कटे और आँखें रो दीं ! वेब साईट बना चर्चा हुई ! ब्लॉगिंग की गयी, ट्वीट हुआ स्टेटस बना और आज करार ख़त्म हो गया ! लीजिये सत्य की लड़ाई तक पहुँचते पहुँचते प्रोग्राम ही खत्म हो गया ! सत्य की जीत हुई या नहीं क्या पता ? पर आज ‘सत्यमेव जयते’ के भी पार हो गए हम ! कहिये अब नया ‘प्रोग्राम’ क्या हो ? एक ‘नयी शुरुआत’… पार्ट टू -‘सहयोग मेव दयेते’ ?

to be continued… ?

Satyamev-Jayathe

Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *