महालोक – ग्यारह

डिजिटल देवताओं के वाहनों का बुरा हाल हुआ है ! मूषक बिचारा अपने प्राकृतिक सौन्दर्य को कभी नहीं पा सका ! अपने स्वामी को ढूंढता हुआ महानगरों में बिचारा सड़े पानी में तैरता हुआ ही दिखता है ! नंदी अकड के पत्थर बन गया है ! लक्ष्मी जी का उल्लू पार्किंग के लिए एक सही पेड़ नहीं खोज पाता ! विष्णु जी के गरुड़ का आकाश भक्त ने अपने वाहन के लिए छीन लिया है ! शनि का कौवा दो पंखों वाला कोई विचित्र लोक का प्राणी बन किस देवता को ढो रहा है पता ही नहीं चलता ! जबसे देवता डिजिटल हो गए हैं, भक्त मेंटल हो गए हैं ! इस बीच राम की बॉडी बन गयी है ! रावण पॉपुलर हो गए हैं ! गणपति जी जबसे रिमिक्स गानों के जॉकी बन गए हैं नाचना भक्तों की मजबूरी हो गयी है ! पटाखे अब सिर्फ दीपावली के मोहताज नहीं भक्त का मूड हो तो बरसात में भी फटते हैं ! दुर्गा देवी स्लिम हो गयी हैं ! सदा धुत्त रहने वाले शिव जी एक्टिव लगने लगे हैं ! देवताओं के साथ राक्षस भी फेसबुक फ्रेंडली हो गए हैं ! बलात्कार बढ़ा है तो क्या, चमत्कार भी कम नहीं हुए ! कई भगवान् जेल में हैं !

Tagged , , , , , , , . Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *