हवा में उछली एक लड़की

शरीर की नियमित
अनियमितताओं
से छूट कर
पुरुषों के छल्ले
जीवन के आराम
अपनी उम्र, ऊंचाई और वजन
से निकलकर
पागलपन की हद तक
हवा में उछली एक लड़की
जैसे
मांसपेशियों की तितली

रातों रात
त्रिपुरा के आदिवासी
भारत का अभिन्न हिस्सा
बन गए
फिर से,
हाथों के बल
जब
हवा में उछली
अगरतला की एक लड़की

इस लड़की को देखो
हवा में उछल कर
इसने औरत का काम किया

मेहनती और मेहनती
कसरती और कसरती

देश भर में आयी बाढ़ / सीमा समस्या
हाई स्कूल की फीस / यौन उत्पीड़न
लालची राजनेता / खेलों में सिफारिशें
शराब / चोट / शिक्षा व्यवस्था
जिमनास्ट लड़की के साथ
सब हवा में
धनुषाकार
अनदेखे में छलांग लगाने के लिए
हवा में उछली एक लड़की को
दे चुकी सरकार
अर्जुन पुरस्कार

शक्ति, लचीलापन, संतुलन और नियंत्रण की
हर लड़की से ज्यादा ज़रूरत है
लड़कों को,
पर्याप्त रक्त
कसरत और कैलोरी की

हवा में उछली एक लड़की
और बेटियों की मांग बढ़ी

कसरती लड़की का शरीर
एक उपजाऊ जंगल है
जैसे
त्रिपुरा

पहुँचने का
कोई आम रास्ता भी नहीं
एनएच 44 से
तुम तक पहुँचे
मेरी ये कविता

Deepka-karmakar

deepa

India's Dipa Karmakar competes in the qualifying for the women's Beam event of the Artistic Gymnastics at the Olympic Arena during the Rio 2016 Olympic Games in Rio de Janeiro on August 7, 2016. / AFP / EMMANUEL DUNAND (Photo credit should read EMMANUEL DUNAND/AFP/Getty Images)

Rio-Olympics-Saina-Sania-was-also-disappointed-after-Dipa-Karmakar-news-in-hindi-152309

 

छवि स्रोत: Google

Bookmark the permalink.

2 Responses to हवा में उछली एक लड़की

  1. bulloo kumar says:

    तगड़ी कविता

  2. पढ़ने के लिए शुक्रिया 🙂

Leave a Reply