शिकारी सिंगल

शिकारी सिंगल

 

‘शिकारी सिंगल’ मर्दों को अपने हवस का शिकार प्रेम का ढोंग रचा के बनाती है और कुछ ही हफ़्तों में बच्चा, नौकरी, मूड या किसी एक्स या कोई नए प्रेमी का बहाना बना कर अचानक गायब हो जाती है ! भावुक आदमी तड़पता रह जाता है ! मिडिल ऐज़ ‘ शिकारी सिंगल ‘ मल्टीप्ल डबल टाइमिंग करती है ! अपने पुरुष शिकार बहुत ध्यान से अलग अलग फील्ड से चुनती है और अपने से कमज़ोर आदमी में अपना शिकार तलाश करती है ! उसके शिकार एक दुसरे को नहीं जानते ! ये कई सारे सोशल साइट के प्लेटफार्म पर होती है और अपने फ़ोन से ऑपरेट करती है ! जिनसे पब्लिक में मिलती है उनसे दुरी बना के रखती है ! शिकारी सिंगल देखने में पढ़ी लिखी होती है, नौकरी भी करती है और भावनात्मक रूप से बिलकुल क्रूर होती है ! इनकी दिलचस्पी हर पल बदलती रहती है और मदद की आड़ में अपना शिकार ढूंढ लेती है ! इनसे आप कभी रिश्ता बनायें तो कंडोम का जरूर इस्तेमाल करें और सेक्स के बाद इनको रुपये जरूर दें ! इनके प्रेम के भ्रम को तोड़ें और इनके बारे में अपने दोस्तों के ग्रुप में खुल के चर्चा करें ताकि आपका कोई भावनात्मक दोस्त  इनका शिकार न बने ! अपने सेक्स की जरुरत को पूरा करना सबका हक़ है पर वो किसी रंग में न हों, दोस्ती और प्रेम के ढोंग में तो बिलकुल न हो ! जनहित में जारी !

शिकारी सिंगल / पार्ट टू ‘ सेटिंग अप द स्टेज ‘

बलात्कार और चाइल्ड एब्यूज जैसी महानगरीय वीभत्स हादसों के बाद ‘शिकारी सिंगल’ सेंटर स्टेज के लिए ‘डेस्पेरेट’ हो जाती हैं ! अपने हारे पुराने शिकार आशिकों को लेकर कोई मंच बनाती हैं और अपने हवस के नए शिकार के लिए आंदोलन में उतर जाती हैं ! कैंडल लाइट मुहीम और आंदोलन की हर रात वो एक नए मर्द शिकार के साथ हम बिस्तर होने का टारगेट रखती हैं और मोम की तरह नए पते की चादरों पर पिघलती हैं ! उनका मुख्य उद्देश्य सेक्स होता है और वो मुहीम के हर दिन अपनी कई नयी रातों के लिए नया शिकार ढूंढ लेती हैं ! योन शोषण के शिकार हुए कमज़ोर मर्द अपनी किस्मत पर इतराते हैं और इससे पहले वो कुछ समझ पाएँ मिडिल ऐज़ ‘ शिकारी सिंगल ‘ मल्टीप्ल डबल टाइमिंग करती हुई आंदोलन और मुहीम का धन्यवाद ज्ञापन कर देती हैं ! व्यस्त इतनी दिखती हैं की मर्द अपनी भावनाओं को व्यक्त भी नहीं कर पाता है ! अगर किसी ने मुंह खोला तो वो उसे छोटा साबित कर उसे ‘सेक्स गिल्ट’ में धकेल देती हैं ! इनसे आप कभी रिश्ता बनायें तो कंडोम का जरूर इस्तेमाल करें और सेक्स के बाद इनको रुपये जरूर दें ! इनके प्रेम के भ्रम को तोड़ें और इनके बारे में अपने ग्रुप में खुल के चर्चा करें ताकि कोई भावनात्मक आदमी इनका शिकार न बने ! अपने सेक्स की जरुरत को पूरा करना सबका हक़ है पर वो किसी रंग में न हों, दोस्ती और प्रेम के ढोंग में तो बिलकुल न हो ! जनहित में जारी !

*

दमित वासनाओं वाली शिकारी सिंगल के सीने में पतले लोहे का एक खोखला दिल है जिसमे वो आप को एक रात के लिए भरती है ! ये दिल का टिन – बॉक्स उसका बस एक इन -बॉक्स भर है जिसे वो अपनी वहशत में पिघला लेती है और आप के आकार में ढल जाती है ! शिकारी सिंगल सिर्फ अपने लिए पिघलती है ! आप उसके आलिंगन में जब प्यार भरते हैं, शिकारी सिंगल पिघल के अपने वहशत में सिर्फ आपकी देह से अपना प्रवेश भरती है ! अगली भट्टी पर चढ़ने तक वो आप के प्यार के आकार में घूम भी लेगी पर जब वो फिर किसी बिस्तर पर पिघलेगी तो किसी की नहीं होगी ! आप के दिए हुए बोसे को जब अपने कपड़ों के साथ किसी और बिस्तर पर उतारेगी तो उनकी तरफ पलट के देखेगी भी नहीं ! आप दर्द और दशहत में फर्श पर बिलबिलाते रहेंगे और वो नए प्रेमी का दिया हुआ नया वस्त्र पहन कर , नया आकार ले कर आप पर मिटटी डाल देगी ! इनसे आप कभी रिश्ता बनायें तो कंडोम का जरूर इस्तेमाल करें और सेक्स के बाद इनको रुपये जरूर दें ! इनके प्रेम के भ्रम को तोड़ें और इनके बारे में अपने दोस्तों के ग्रुप में खुल के चर्चा करें ताकि आपका कोई भावनात्मक दोस्त इनका शिकार न बने ! अपने सेक्स की जरुरत को पूरा करना सबका हक़ है पर वो किसी रंग में न हों, दोस्ती और प्रेम के ढोंग में तो बिलकुल न हो ! जनहित में जारी !

*

कुछ आलस और कुछ बाकी कामों की डेडलाइन के चक्कर में आप अपने भीतर उसके प्रेम के पींग भरने लगते हैं और शिकारी सिंगल अपने काम की डेडलाइन पूरा करने के बीच में ही आपका शिकार कर लेती है ! आपको अपनी मर्ज़ी का काम करने का मौक़ा नहीं मिलता और वो ऑफिस की बातों को दिल से ना लगाकर सिर्फ़ अपने काम पर ध्यान केंद्रित करके अपने काम और मसरूफ़ जिंदगी के बीच आप के साथ सेक्स भी कर लेती है ! शिकारी सिंगल की आज़ादी से आप नहीं जीत पाएंगे ! इनसे आप कभी रिश्ता बनायें तो कंडोम का जरूर इस्तेमाल करें और सेक्स के बाद इनको रुपये जरूर दें ! इनके प्रेम के भ्रम को तोड़ें और इनके बारे में अपने दोस्तों के ग्रुप में खुल के चर्चा करें ताकि आपका कोई भावनात्मक दोस्त इनका शिकार न बने ! अपने सेक्स की जरुरत को पूरा करना सबका हक़ है पर वो किसी रंग में न हों, दोस्ती और प्रेम के ढोंग में तो बिलकुल न हो ! जनहित में जारी !

*

आप से नहीं हो पायेगा ! आप के पास इतना बड़ा कलेजा नहीं कि आप एक स्त्री / पुरुष को उन्मुक्त हो कर काम सुख लेने दें ! वो आप को चुभेगी / चुभेगा ! उनका सेक्स आप को चुभेगा ! उनकी बेफिक्री आप सह नहीं पाएंगे ! आप के साथ सेक्स करने के बाद अब वो किसी और के साथ सेक्स कर रही / रहा है ये सच आप स्वीकार नहीं पाएंगे ! शिकार हर उस जानवर या पक्षी को कहा जाता है जिसका शिकार खाने या खेल के लिए किया जाता है ! शिकारी सिंगल के लिए आप भी सिर्फ एक वक़्त का खाना और खेल हैं ! अपने शिकार के बाद शिकारी सिंगल की प्रखरता और तार्किकता के कायल आप नहीं रह पाएँगे ! आप सिर्फ एक औरत / मर्द के कामोन्माद के शिकार नहीं हुए हैं, आप अपने अहम् के भी शिकार हो चुके हैं ! शिकारी सिंगल को आज़ाद कर दीजिये ! आप उन्हें जाने दीजिये, जीने दीजिये ! इनसे आप कभी रिश्ता बनायें तो कंडोम का जरूर इस्तेमाल करें और सेक्स के बाद इनको रुपये जरूर दें ! इनके प्रेम के भ्रम को तोड़ें और इनके बारे में अपने दोस्तों के ग्रुप में खुल के चर्चा करें ताकि आपका कोई भावनात्मक दोस्त इनका शिकार न बने ! अपने सेक्स की जरुरत को पूरा करना सबका हक़ है पर वो किसी रंग में न हों, दोस्ती और प्रेम के ढोंग में तो बिलकुल न हो ! जनहित में जारी !

Any Resemblance to Actual Persons, Living or Dead, is Purely Coincidental

‘शिकारी सिंगल’ जितनी क्रूर आप कहाँ ?

शिकारी सिंगल चरित्रहीन बन कर समाज में फैले ‘चरित्र’ जैसे सामाजिक परिकल्पना को चैलेंज करती है और खुद को हर चरित्र से आज़ाद रखती है ! शिकारी सिंगल अपने सेक्स पार्टनर के साथ ‘प्रेम’ जैसी भावनाओं का मज़ाक उड़ाती है ! लॉयलिटी जिसके लिए गुलामी है ! वो मल्टिपल टाइमिंग करती है ! उसकी कोई मोरालिटी नहीं ! अपने शारीरिक सुख के लिए सेक्स को सभी भावनाओं से बड़ा मानती है ! वो सहज झूठ बोलती है ! वो थैंकलेस है !  शिकारी सिंगल बस एक काल्पनिक चरित्र है !  इनसे आप कभी रिश्ता बनायें तो कंडोम का जरूर इस्तेमाल करें और सेक्स के बाद इनको रुपये जरूर दें ! इनके प्रेम के भ्रम को तोड़ें और इनके बारे में अपने दोस्तों के ग्रुप में खुल के चर्चा करें ताकि आपका कोई भावनात्मक दोस्त इनका शिकार न बने ! अपने सेक्स की जरुरत को पूरा करना सबका हक़ है पर वो किसी रंग में न हों, दोस्ती और प्रेम के ढोंग में तो बिलकुल न हो ! जनहित में जारी !

शिकार की हर बात क्रूर होती है ! इस सीरीज में आप कोमलता की तलाश न करें !

Tagged , , , , , , . Bookmark the permalink.

Leave a Reply