सर्दी की वापसी

मौसम

जबसे ऑस्कर विजेता अभिनेत्री जुलिया राबर्ट्स ने हिंदूू धर्म अपना लिया है मेरा मौसम पर से विश्वास उठ गया है ! मैंने सोचा इससे पहले ये सर्दी का मौसम गर्मी में बदल जाए इसे लौटा देना चाहिए ! इस बीच वापसी की अफवाहें काफी तेज हो रही थी, कोई घर वापसी कर रहा था तो कोई नोट ! कन्फर्म ट्रेन टिकट, क्रिकेट, फिल्म, जेल, सत्ता, संन्यास, टेलीविजन, राजनीति, ऋण, धर्म, पुरस्कार से ले कर दिए गए ज़ुबान तक की लोग वापसी कर रहे थे ! मैं भी सर्दी वापसी के लिए एक दिन मौसम डिपार्टमेंट में पहुँच गया ! सर्दी की वापसी के लिए मैं मौसम केंद्र में समय से पहले पहुँच गया था ! कोई लाइन नहीं थी ये देख कर मैंने अपनी ज़ेब टटोली और खाली जेब से मुझे याद आया मैं बैंक में नहीं हूँ ! एक लाईन से निकलकर दूसरी लाईन में लगना ही जीवन का सार है, भारतीय नागरिक के रूप में ये बात मैं अच्छी तरह जानता हूँ ! तब तक काउन्टर खुल गया था !
” मुझे सर्दी से शिकायत है, सर्दी की वापसी करनी है ” मैंने कहा !
” आप हमारे ऑनलाइन स्टोर से खरीदे गये उत्पादों से बहुत खुश होंगे ” जवाब आया !
” हर विवरण झूठा है, मौसम की मार से मैं परेशान हूँ ,आप मुझसे मेरी सर्दी वापस ले लें, मुझे सर्दी नहीं चाहिए ” मैंने कहा !
” आपने इस सर्दी के लिए कितने रुपये भरे थे ? ”
” मैंने तो रुपये नहीं भरे ! मुझे लगा मौसम मुफ्त में मिलता है “
” रुपये नहीं भरे ? “
” नहीं “
” ठीक है फिर फॉर्म भरिये “
यंग मैन ने मुझे ग़ौर से देखा और बोला ” सर्दी साथ लाये हैं ? “
” जी ” मैंने कहा !
” कहाँ है ? “
” नाक में भरा है ” मैंने भारी आवाज़ में जवाब दिया !
” ये क्या हाल बना रखा है, कुछ लेते क्यों नहीं ? ” अचानक उसके मुँह से ये सुना सुनाया वाक्य निकला ! सर्दी से मेरी आँखें भर गयी ! उसने समझा मैं भावुक हो गया हूँ ! उसने मुझे टच किया और वो टच्ड हो गया, पर रोने की जगह छींकने लगा ! ” सर आपकी सर्दी स्ट्रांग है ” कहते हुए उसने रुमाल निकाला ! देखा देखी मैंने भी रुमाल निकाल लिया ! रुमाल के साथ हम दोनों ने लगभग एक ही एक्शन किया !
” आप क्रेता हैं या विक्रेता ? “
” मैं आम आदमी हूँ “
‘आप’ हैं ?
” जी, मैं हूँ “
‘आप’ पार्टी कार्ड लाये हैं ?
यंग मैन ने जैसे मेरी तरफ देखा मैं समझ गया कुछ गड़बड़ है !
” मैं आम आदमी हूँ, पर दिल्ली वाला आम आदमी नहीं, देश के कार्टून वाला आम आदमी हूँ “
मैंने कहा ! फिर लगा आम आदमी कह कर गलती कर बैठा हूँ ! भक्त हूँ कह देता तो शायद काम बन जाता ! आम आदमी या भक्त ? भक्त या आम आदमी ? मेरा ये कॉन्फ्लिक्ट मुझे परेशान करने लगा ! उसने मेरा चेहरा पढ़ लिया !
” क्रेता और विक्रेता के बीच एग्रीमेंट के बाद जो पंजीयन शुल्क जमा होता है, वह वापसी के समय वापस किया जाना चाहिए। जब दोनों पक्ष संपत्ति की रजिस्ट्री के लिए आते हैं उस दौरान पंजीयन के लिए जमा राशि की रसीद कार्यालय में पेश करनी होती है। उस रसीद नंबर के आधार पर ही क्रेता के खाते में पैसे ट्रांसफर किए जाते हैं। जब से ई-रजिस्ट्री प्रक्रिया शुरू हुई है, तब से किसी भी वापसी में आए-दिन कोई न कोई समस्या आ रही है। सॉफ्टवेयर में त्रुटि के कारण कई क्रेताओं को पंजीयन राशि वापस नहीं मिल रही है। रजिस्ट्री होने के बाद भी पैसे वापस न मिलने पर महानिरीक्षक,पंजीयन एवं मुद्रांक के लिए दिल्ली कार्यालय आवेदन करना होता है। उसके बाद भी पैसे मिलने की प्रक्रिया काफी लंबी है। इसके चलते अपनी रकम पाने के लिए क्रेता को लंबा इंतजार करना पड़ रहा है ! आपकी सर्दी तो मुफ्त की है हम ये नहीं ले सकते “
एक सांस में वो सारी बात कह गया ! मुझे कुछ समझ नहीं आया ! मेरे भीतर से भक्तिकाल की आवाज आयी और मैं चीख पड़ा ” यह लैं अपनी लकुटि कमरिया, बहुतहिं नाच नचायो, मैया मोरी मैं नहीं माखन खायो ” यह सुन कर यंग मैन मुझे आश्चर्य से देखने लगा और मुस्कुराने लगा ! ” आप तो भक्त हैं ” उसकी ये बात सुन कर मैं सिहर गया !
” सर ये इ – कॉमर्स का मामला है ! आपको अच्छी तरह समझना होगा ” मुस्कुराते हुए उसने कहा ” वापसी का अनुरोध फॉर्म भरिये, यह है वापसी की प्रक्रिया ” एक सी डी देते हुए उसने आगे कहा ” कल इसे देख कर आइयेगा ! यह कार्यक्रम सर्दी के मौसम की आम जानकारी देता है और साथ में ये फॉर्म फिल कर के लाइयेगा ” मैंने जी के आकार में सर हिलाया ! ” हम भक्तों के लिए नया मौसम ले के जल्द ही वापस आ रहे हैं, आपका स्वागत है ! ” उसने कहा ! मैंने भी सोचा रिटर्न और रिफंड से किसका मन भरता है, लोग करते ही रहते हैं ! पर आँखों से निकल कर आँसुओं की वापसी कभी नहीं हुई, आँसू चाहे दुःख – सुख के हों या सर्दी के ! पता नहीं मैं हंस रहा था या रो रहा था ! बैंक में पैसे नहीं थे और मेरी जेब खाली थी, सर्दी से मेरा बुरा हाल था ! मैंने मौसम विभाग में यूँ ही टाइम पास के लिए लाइन लगाने की ठानी, बदले में मुझे एक फॉर्म भरने के लिए मिला और मौसम की जानकारी वाली जुलिया राबर्ट्स की कोई सी डी !

Tagged , , , , , . Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *