महालोक के ‘अंग प्रत्यंग’ – अंगो का एकालाप : महालोक – दो

Pic : Dina Bova

Pic : Dina Bova

युग्म शब्द ‘अंग – प्रत्यंग’ का प्रयोग बोल चाल की भाषा में पूरे शरीर को उद्धत करने के लिए किया जाता है ! इस शब्द का उपयोग मुहावरे के रूप में शारीरिक भाव या शारीरिक संरचना के सन्दर्भ में भी किया जाता रहा है ! मूलतः इसका सन्दर्भ नाट्य शाश्त्र में सबसे पहले मिलता है ! नाट्य शाश्त्र में शरीर को तीन प्रमुख भागों में विभाजित किया गया है ! अंग , प्रत्यंग, और उप – अंग  !
छः अंग हैं ! शीर्ष / सिर (head), हस्त / हाथ (hand) , वक्ष / छाती (chest) , पार्श्व (sides) ,कटि (hips) , और पाद/ पैर ( leg) ! ग्रीवा / गर्दन (neck) को सातवां अंग मना जा सकता है ! प्रत्यंग भी छह हैं ! स्कंध / कंधे (shoulders), बाहू / बांह (arms ), पीठ , पेट , जांघ ,उरु ! और उप – अंग बारह ! उप – अंग चेहरे की अभिव्यक्ति के लिए महत्वपूर्ण हैं ! नेत्र,भ्रकुटी,नासिका,अधर,कपाल,चिबुक, होंठ, दांत, जीभ, ठोड़ी,पुतुली और चेहरा ! नाट्यशास्त्र के अनुसार, नर्तक या अभिनेता नाटक के अर्थ को चार प्रकार के अभिनयों के ज़रिये प्रस्तुत करता हैः आंगिक या शरीर के विभिन्न अंगों के शैलीपूर्ण संचालन के माध्यम से भावना की प्रस्तुति; वाचिक या बोली, गीत, स्वर की तारता और स्वरशैली से भावना की प्रस्तुति ; आहार्य या वेशभूषा और श्रृंगार से भावना की प्रस्तुति; और सात्विक ! सात्विक अभिनय तो उन भावों का वास्तविक और हार्दिक अभिनय है जिन्हें रस सिद्धांतवाले सात्विक भाव कहते हैं !

हर अच्छे  कलाकार के पास शैलीकृत भंगिमाओं का जटिल भंडार होता है। शरीर के प्रत्येक अंग, जिनमें से आँखें व हाथ सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण हैं, के लिए पारम्परिक तौर पर मुद्राएँ निर्धारित हैं। सिर के लिए 13, भौंहों के लिए 7, नाक के लिए 6, गालों के लिए 6, ठोड़ी के लिए 7, गर्दन के लिए 9, वक्ष के लिए 5 व आँखों के लिए 36, पैरों व निम्न अंगों के लिए 32, जिनमें से 16 भूमि पर व 16 हवा के लिए निर्धारित हैं। पाँव की विभिन्न गतियाँ (जैसे-इठलाना, ठुमकना, तिरछे चलना, ताल) सावधानी से की जाती हैं। एक हाथ की 24 मुद्राएँ (असंयुक्त हस्त) और दोनों हाथों की 13 मुद्राएँ (संयुक्त हस्त), एक हस्त मुद्रा के एक-दूसरे से बिल्कुल भिन्न 30 अर्थ हो सकते हैं।

आजकल की अभिनयप्रणाली में एक चरित्राभिनय (कैरेक्टर ऐक्टिंग) की रीति चली है जिसमें एक अभिनेता किसी विशेष प्रकार के चरित्र में विशेषता प्राप्त करके सब नाटकों / फिल्मो में उसी प्रकार की भूमिका ग्रहण करता है। फिल्मो के कारण इस प्रकार के चरित्र अभिनेता बहुत बढ़ते जा रहे हैं। उनके अभिनय की शैली में ‘अंग – प्रत्यंग’ वही रहते हैं बस फिल्मो में उनके चरित्र के नाम बदलते रहते हैं !

अपनी फिल्मों में चरित्रों के संसार को रचने के क्रम में उनके अभिनय की परिकल्पना पर मेरा मन एक विचार से दुसरे विचार के बीच अपने वेग से विचरता रहता है ! मन में उठते विचार एक सशक्त आवेग हैं जिसकी अभिव्यक्ति के लिए मै सतत प्रयत्नशील रहता हूँ ! प्रस्तुत है मेरे मनोवेग की पहली कड़ी ! ये पंक्तियाँ ‘स्वगत स्वरुप’ में ही मुझ तक अलग अलग विचारों के क्रम में मेरे मन में आयीं जिन्हें मै अपने फेसबुक के वाल पर शेयर करता रहा हूँ !

मैं फेसबुक स्टेटस को ‘मनः स्टेटस’ भी कहता हूँ , मनः स्थिति का परिवर्तित स्व – रूप ! मनोवेग की पहली कड़ी में प्रस्तुत है ‘अंग – प्रत्यंग’ ! कोई अभिनेता अपने शरीर को लेकर अंगो के मेरी इस एकालाप को प्रयोगधर्मी प्रस्तुति में भी बदल सकता है ! अपने ‘मनः Status ‘ का ये साहित्य शेयर करते हुए मुझे ख़ुशी हो रही है !  पढ़िए और भावनाओं के जाने अनजाने सोते में गोते लगाईये … मेरे इन विचारों से आप भी अपने – अपने ‘मनो – योग’ से जुड़िये और जोड़िये ! अगर मेरा ये पोस्ट आपको पसंद आए तो अपने अंग से कहियेगा प्रदर्शित करे … अंग प्रदर्शन के लिए अभिनेता होना जरूरी नहीं है … और अंग प्रदर्शन का मतलब हमेशा वही नहीं होता जिसे हमारा सेंसर दिखाने नहीं देता… आप मुझे अंगूठा तो दिखा ही सकते हैं 😉

421px-The_Thumbs-up_position

कलेजा ठंडा किया जाता है और खून गर्म ! खून को खौला भी सकते हैं ! खून पीना एक बात है और खून का घूँट पीना एक दम अलग बात ! दिल लेने और देने के काम आता है, सबसे ज्यादा टूटता भी यही है ! दिमाग की दही होती है ! छाती चीरते हैं और गर्दन काटी जाती है ! गला काटने और दबाने दोनों के काम आता है ! हाथ और पाँव तोड़े जाते हैं ! पाँव तोड़ के हाथ में भी रखने की बात सुनी जा चुकी है ! उँगलियों पर नाच सकते हैं ! कन्धा दिया जाता है ! दिल पर और सर पर हाथ रखा जाता है ! पैर भारी हो सकते हैं और घुटनों के बल चला जा सकता है ! कान में तेल डाल के सो सकते है, मरोड़ सकते हैं और उसके नीचे बजा भी सकते हैं ! कुछ कान के कच्चे भी होते हैं ! पेट की पूजा होती है ! नाक कट सकती है ! मुँह काला हो सकता है ! हाथ खाली हो सकते हैं ! सर झुकाया और उठाया जाता है ! होंठ सिले जाते हैं ! आँखें बोलती हैं ! कमर कसी जाती है ! करने पर हड्डी पसली एक हो सकती है ! हाथ पीले हों तो अच्छी बात है पर रंगे हाथ पकडे गए तो गए काम से ! आँख फोड़ी जाती है और मुँह तोडा जाता है ! खाल खींची जाती है ! निकलना हो तो बाल की खाल निकाल सकते हैं ! नाक से चने चबा सकते हैं ! दांतों तले उंगलियाँ दबा सकते हैं ! दांत खट्टे हो सकते हैं ! ज़ुबान पर लगाम लगाई जाती है ! आँख मारने के काम आती है , वैसे कई अंग हैं जिनको मारते हैं ! जिस्म के साथ ये सब करना मर्दाना है !

अपने आप को सिर्फ अपने अंगों के भरोसे कैसे छोड़ दें…?

जैसे रेडियो कान में घुस गया है वैसे ही धीरे धीरे टेलीविजन भी आँख में घुस रहा है ! मोबाइल कान और आँख दोनों में घुसा हुआ है ! कैमरा, पर्स, बैग, फोन, छुट्टे पैसों में हाथ पहले से उलझे हुए हैं ! अंगूठी में उँगलियाँ फंसी हैं ! घड़ी और टोटके में कलाई ! जूते चप्पल में पाँव धंसा हुआ है ! गुप्तांगों की तो हालत बहुत खराब है पता नहीं क्या क्या फंसा के कहाँ कहाँ घुसा दिया है ! आँख और नाक पर चश्मा अलग से ! गले की हालत तो ऐसी है की कोई भी काट ले ! दिल दिमाग के बिना सारी कल्पनाएँ अधूरी हैं ! फेफरे में धुंआ भर लिया है और किडनी में शराब ! हम ‘अंग प्रत्यंग’ से खेल रहे हैं…

अंग - प्रत्यंग

अंग – प्रत्यंग

जहाँ हम होते हैं जरूरी नहीं वहीँ दिमाग हो !

चाहे कुछ भी बंद करें मुँह खुला रहता है !

दूसरा कदम रखने के बाद पहला कदम पूरा होता है !

गले से उतरते ही ज़हर अपना काम शुरू कर देता है पर उसे गले से उतारना कौन चाहता है ?

दो हाथ हमारे दो मन हैं ! एक कहीं भी पहुँच सकता है और एक सिर्फ कहीं कहीं…

हाथ जोड़ के… घुटनों के बल बैठ के… गोल गोल घूम के… खड़े खड़े… उफ़ ! बाहर कैसे कैसे इशारे…! और वो हमारे अंदर ही है …

मुँह में घी शक्कर बोला ही था थोड़ी चायपत्ती चीनी और गरम पानी भी बोल देते !

जब दिल बैठ जाता है तो कोई और अंग खड़ा होने की ज़ुर्रत नहीं करता !

खड़े होने की बात हो तो बाल और रोंगटे को हम भूल जाते हैं !

सच का साथ दें या न दें इसका फैसला हमेशा हमारे हाथ में रहता है !

मन की आवाज़ आँखों का कोलाज़ है !

जीभ अपना कहा खुद काटती है !

मन कठोर करने के लिए शिलाजीत नहीं खाना पड़ता !

आँखों से सुनना कान से देखना नाक से छूना हाथ से सूंघना पैर से सोचना और दिमाग से चलने को मल्टीमीडिया इफेक्ट कह सकते हैं !

अच्छा रसोइया ज़ुबान खींच लेता है !

हमारा चेहरा हमारे मूड का बर्तन है !

आँखें देखतीं ही नहीं एडिट भी करती हैं !

कैमरे के लिए पल भर में हम अपने अंदर से फोटो वाला चेहरा निकाल लेते हैं !

अलग अलग दोस्तों के लिए अलग अलग भावनाएं रखने में मन मास्टर होता है !

कई लोगों के पैर नहीं होते पर वो ‘sir’ होते हैं !

सच झूठ के बिना नंगा होता है !

आँखे देखती हैं ,मन रंग भरता है !

आप का मुखड़ा किसी जीवन का अंतरा है !

कमर फैशन में है सीना नहीं ! ( छाती ठोकने वालों के लिए )

जब से गुरु ने अंगूठा काट लिया है हम सब अंगुली से ही एक दुसरे को छेड़ रहे हैं !

उस आँख से क्यों नहीं कुछ दीखता जिस आँख में मन है मेरा !

हम अंदर बाहर एक नहीं हैं !

आँख चुराते हैं तो आँख में गिर भी जाते हैं !

आँख में धुल झोंकते हैं !

धुल चाटी भी जाती है !

आँख की सेंकाई करने वाले ही आँख मारते हैं !  आँख का मारा सबूत ही जुटा रह जाता है ! तरसती आँखों के बीच चार चार आँखें ले के घूमने वाले भी हैं ! आँख बिछाई भी जाती है ! फेर ली गयीं आँखें उठती नहीं हैं ! आँख लग जाए तो आँख खुलती नहीं है ! आँखों पर से पर्दा हटाते है तो सब बदल चूका होता है !

Pic : Dina Bova

Pic : Dina Bova

सांप कलेजे पर खूब लोटते हैं !

कुछ हाथों हाथ लेते हैं तो बात कानों कान फैल जाती है !

हाथों हाथ ली गयी बात कानों कान फैल जाती है !

आप अपने कान खुद क़तर सकते हैं भर नहीं सकते !

कच्चा कान किसी काम का नहीं होता !

कान पर जूँ नहीं रेंग सकता और नाक पर मख्खी नहीं बैठ सकती !

नाक सब रख सकते हैं पर नाक कोई रगड़ना नहीं चाहता ! नाक कटता है तो खून नहीं बहता !

दाँत खट्टे हो जाएँ तो मुह छुपाना पड़ता है ! मुँह की खाने के बाद पता नहीं क्यों दाँत पिसते हैं लोग !

दाँत कटी रोटी मुँह बंद रखता है !

मुँह पर का कालिख मुँह का पानी नहीं धो सकता !

मुँह नहीं रखो तो मुँह उतर जाता है !

मुँह दिखाई के रस्म में मुँह उतार के छुपा नहीं सकते !

दिल पर कोई नहीं लेता अब सब हार्ड डिस्क पर ले लेते हैं !

अक्ल के पास घोड़े होते हैं इसीलिए अक्ल के दुश्मन होते हैं !

आँख दिखाओगे तो आँख ही देखोगे !

पर पूरे अंग में भूत सिर्फ सर पर सवार होता है !

अंग छूटा संग छूटा … !

वैसे अपनी करनी सब अंग याद नहीं रखते !

अंग टूटते हैं ढीले होते हैं पर ये पढ़ के आज अंग अंग मुस्कुराएंगे …

''Sringāra Rasa''': Rasa-Abhinaya by all time great Rasa-Abhinaya maestro (late) Guru Nātyāchārya Vidūshakaratnam Padma Shri Māni Mādhava Chākyār at the age of 89.

”Sringāra Rasa”’: Rasa-Abhinaya by all time great Rasa-Abhinaya maestro (late) Guru Nātyāchārya Vidūshakaratnam Padma Shri Māni Mādhava Chākyār at the age of 89.

इतिहास में मूर्तियों के अंग भंग करना कट्टर प्रतिवाद का प्रमाण रहा है ! जिस्म के साथ मुहावरों, कहावतों और गालियों में बहुत कुछ करते हैं ! सभ्यता के इस पड़ाव पर जिस्म के साथ हम पता नहीं क्या क्या करेंगे और क्या – क्या किया जा सकता है … ! वैसे चौसठ प्रकार पर एक प्राचीन किताब भी है…

india

Body-Language

क्रमशः

महालोक में गणपति विसर्जन / शब्द – चित्र : महालोक – एक

गणपति विसर्जन चल रहा था ! भक्त थे, भीड़ थी ! भीड़ देख के भीड़ बढती है ! भीड़ बनना बहुत बड़ा मानवीय गुण है और भीड़ बन पाना बहुत बड़ा सौभाग्य ! भीड़ को चीरता हुआ मुझे एक आदमी मिला जो मुझ सा ही भटका हुआ था ! हम दोनों भीड़ थे ! वो कहीं से भाग के आ रहा था ! हांफ रहा था और मै सहमा खड़ा था, हम दोनों में बस यही फर्क था ! वो अपने हाथ से गोल गोल के इशारे कर के मुझसे कुछ पूछ रहा था पर मै कुछ सुन नहीं पा रहा था , वहां बहुत शोर था ! लोग दल में बँट कर छोटे बड़े ढोल को पीट रहे थे ! ढोल की आवाज़ इतनी थी की आवाज़ में सिर्फ ढोल पीटने का एक्शन दिख रहा था ! तेरह चौदह साल के लौंडों की वहीँ एक जमात थी जिनके हाथों में डंडे नुमा कई चीजें थीं ! सोटा , बेंत , पाइप के टुकड़े , मोटी छड़ी ! वो सड़क के आवारा देसी शहरी कुत्तों को दूंढ – दूंढ के सूत रहे थे और लंगडाते कींकियाते कुत्ते दुबकने की जगह दूंढ रहे थे ! मोबाइल डबल रोल में था, अपने अपने करतूतों का मोबाइल से सब फोटो भी खींच रहे थे और वो कान ढकने के भी काम आ रहा था !  अफरा तफरी मची थी ! उत्साही कार्यकर्ता प्रसाद के तौर पर ग्लूकोज बिस्कुट के बुरादे पकड़ पकड़ के हाथों में ठूँस रहे थे ! सड़क के किनारे किनारे मंडलियाँ जमी थीं ! जहां कहीं भी चार खड़े थे, मिल के ताड़ रहे थे ! बिसलेरी के बोतल में सबका पानी पतला और भूरा हो गया था ! गर्मी और उमस में पसीने से लथ पथ सजी औरतें भीड़ में बह रही थीं ! आवाज़ की कीचड़ में सब के कान सने थे ! बच्चों का सबसे बुरा हाल था ! वो रो और बिलबिला रहे थे !  वो शोर से थक चुके थे ! एक – एक कर के उनके हाथों से छूट के चाइनीज खिलोने भक्तों के पाँव चढ़ रहे थे ! बच्चों की आँखें उनींदी हो चली थीं और उनके हाथों से गुब्बारे छूट के उड़ रहे थे ! एक सौ इक्कीस दशमलव चार डेसिबल में चौंधियाया आकाश सब शोर निगल रहा था और चाँद मटियामेट शोर के बादल में धंसा हुआ था !

कट टू – चाँद ! चाँद पर श्री गणेश जी बैठे हैं और चाँद ट्रक पर सवार है ! गणेश जी के साथ ट्रक पर बेसुध भक्त भी हैं ! चप्पल पहने पैर लटकाए भक्तों ने ट्रक पर अपनी झालर बना के अपनी ही झांकी निकाल ली है ! आज वे सब स्व – मूर्त हो गए हैं ! तभी चाँद पर से गणेश जी को उतारते हुए ट्रक पर एक भक्त ज्यादा झुक गया और बप्पा के हाथ के थाल से एक लड्डू लुढ़क गया ! बात कानो कान फैल गयी ! हाथों हाथ लोग लड्डू ढूँढने लगे !  सामने तट था ! किनारे पर अफरा तफरी मच गयी ! अचानक  इस बात की होड़ लग गयी कि लड्डू किसको मिलता है ! सब अपने अपने अनुमान की दिशा में लपक लिए ! लोग ऐसे भाग रहे थे जैसे घर भागा जा रहा हो ! वहीँ मेडिकल का कचड़ा खुले में बह रहा था ! कचरे का सिरिंज सबको चुभ रहा था ,लोग बेखबर थे ! समुद्र भी चढ़ने लगा ! छ्प – छ्प का संगीत फच – फच हो गया ! लोग फक – फक करने लगे ! किनारे लगे नावों की रस्सी रेत में धंसी थी जो अब निकल के लोगों के पाँव में फंसने लगी ! लोग गिरने लगे और आँख वाले अंधे भक्त उन पर लुढ़क गए ! लड्डू भी धीरे धीरे ढलान पकड़ चूका था ! वो भी लुढ़क रहा था ! इतनी भीड़ थी, सब दिशा भ्रमित हो गए ! लड्डू अब तक किसी के हाथ नहीं आ सका था मानो अंधे भक्तों के बीच लड्डू बच बच के लुढ़क रहा हो ! लोग बे – सब्र होते जा रहे थे , भाग रहे थे और हाथ से गोल गोल इशारे कर रहे थे !

कट टू – श्री गणेश जी ! भगवान् और भक्त सूंड से सूंड मिला के नाच रहे थे ! गणेश जी फोटो भी खिंचवा रहे थे ! बड़े बड़े काले भुजंग स्पीकर भक्तों के कान को चाट रहे थे ! सबके कान गीले थे ! बियर कान से बह रहा था ! हाथ लहरा – लहरा कर भक्त वो सब बन रहे थे जो उनका मन कर रहा था !  तितली , नाग , अम्पायर ! भीड़ हाथ हिला के छः रनों का इशारा कर रही थी ! लड्डू शायद बाउंड्री के बाहर था !

कट टू – भीड़ ! भीड़ अपने मन से बढ़ने लगी ! लड्डू के बहाने सब निकल पड़े थे ! भक्त भक्त को ढूंढ रहे थे ! लगा लड्डू नहीं उनकी लाज है ! कल कुछ भी नहीं बस सब आज है ! अफवाह जब फैलती है तो सब लड्डू जैसा गोल हो जाता है ! गणपति जी के लड्डू को लुढ़कते गनीमत है मिडिया ने नहीं देखा और न ही दिखाया नहीं तो पता नहीं देश भर में क्या हुआ होता ! आज सड़क पर गाड़ी नहीं थी इसीलिए गढ्ढे भी नहीं थे ! आज सड़क पर सिर्फ भीड़ थी ! लोग एक दुसरे को ऐसे देख रहे थे जैसे सब लड्डू हों ! आज न कोई आगे था न पीछे , न दायें था न बाएं , बस सब लड्डू जैसा गोल था !

कट टू – लड्डू  ! अंततः लड्डू लुढ़क के पानी में चला गया था और कागज़ की नाव की तरह गल गया ! प्लास्टिक का कचरा क्या जाने लड्डू का स्वाद !

कट टू – स्वंम !  ‘श्री गणेश भवन’ से गुजरते समय मुझे प्रिय लड्डू मिल गए ! उन्होंने ये कहानी सुनायी ! वो हंस हंस के ढेर हो रहे थे ! हँसते हुए ही उन्होंने कहा जो लड्डू लुढका था वो मै ही हूँ… ! मै तो सबके पास हूँ ! भक्तों को लगा मै खो गया हूँ … हा हा हा !

 

कट टू – सूचना ! मेरी इस कहानी को दिल पर मत लीजियेगा और हार्ड डिस्क पर लीजियेगा तो बता दीजियेगा ! इसे नाटकीय दृश्य समझ कर पढ़ें और आनंद लें !

कट टू – दी एंड ! शब्द – चित्र  “गणपति विसर्जन ” !

18-3
@ + + + + + + + = © संजय झा मस्तान ,२०१२ .

(मोहल्ला में शेयरिंग )

मुंशी प्रेमचंद की कहानी – ईदगाह

ग़रम भट्टी की अाँच मेंं पसीने से तर बतर हाँफते लोहार को क्या मालूम कि मेले की तैयारी के लिए वो अाज जिस लोहे को चिमटा बनाने के लिए इतनी देर से पीट रहा है, वो वही अमर चिमटा है जिसे ईद के दिन उसे घाटे मे चार-पाँच साल के एक गरीब सूरत लड़के हामिद को बेचना पड़ेगा और जिसे ख़रीद कर हामिद अपनी दादी की वही डाँट सुनेगा, जिसे सुन कर सबकी छाती फट जाएगी और लोग सदियों तक अमीना के साथ रोते रहेंगे ‘सारे मेले में तुझे और कोई चीज न मिली,जो यह लोहे का चिमटा उठा लाया ?’

*

रमजान का महिना चल रहा है ! बरकत और रहमतों का महीना बच्चों की जेबों में कुबेर का धन भर रहा है ! खेल खेल में बच्चों के दो दल हो गए हैं ! मोहसिन, महमद, सम्मी और नूरे अपनी अपनी जेब के खजाने के साथ एक तरफ हैं और चार-पॉँच साल का गरीब सूरत, दुबला-पतला खाली हाथ हामिद अकेला दूसरी तरफ ! आज बच्चों को क्या पता कि आने वाले ईद के दिन हामिद के पास न्याय का बल और नीति की शक्ति होगी ! एक तरफ मिटटी होगी दूसरी तरफ लोहा …

*

आज कहीं मेले में हामिद चिमटा खरीद रहा होगा …! सभी दोस्तों के साथ ‘ईदगाह’ के हामिद और अमीना को भी ईद मुबारक हो !

धनपत राय श्रीवास्तव/

उपनाम

नवाब राय , उपन्यास सम्राटमुंशी प्रेमचंद

( ३१ जुलाई, १८८० – ८ अक्तूबर १९३६ )

‘ईदगाह’

रमज़ान के पूरे तीस रोजों के बाद ईद आई है। कितना मनोहर, कितना सुहावना प्रभात है।
वृक्षों पर कुछ अजीब हरियाली है, खेतों में कुछ अजीब रौनक है, आसमान पर कुछ अजीब लालिमा है।
आज का सूर्य देखो, कितना प्यारा, कितना शीतल है, मानो संसार को ईद की बधाई दे रहा है।
गांव में कितनी हलचल है। ईदगाह जाने की तैयारियाँ हो रही हैं।
किसी के कुरते में बटन नहीं है, पड़ोस के घर से सुई-तागा लाने को दौड़ा जा रहा है।
किसी के जूते कड़े हो गए हैं, उनमें तेल डालने के लिए तेली के घर भागा जाता है।
जल्दी-जल्दी बैलों को सानी-पानी दे दें। ईदगाह से लौटते-लौटते दोपहर हो जाएगी।
तीन कोस का पैदल रास्ता, फिर सैकड़ों आदमियों से मिलना,भेंट करना। दोपहर के पहले लौटना असंभव है। लड़के सबसे ज्यादा प्रसन्न हैं। किसी ने एक रोज़ा रखा है, वह भी दोपहर तक, किसी ने वह भी नहीं, लेकिन ईदगाह जाने की खुशी उनके हिस्से की चीज़ है। रोजे बड़े-बूढ़ों के लिए होंगे। इनके लिए तो ईद है।
रोज ईद का नाम रटते थे। आज वह आ गई। अब जल्दी पड़ी है कि लोग ईदगाह क्यों नहीं चलते। इन्हें गृहस्थी की चिंताओं से क्या प्रयोजन। सेवैयों के लिए दूध और शक्कर घर में है या नहीं, इनकी बला से, ये तो सेवैयाँ खाएँगे।
वह क्या जानें कि अब्बाजान क्यों बदहवास चौधरी कायमअली के घर दौड़े जा रहे हैं!  उन्हें क्या खबर कि चौधरी आज आँखें बदल लें, तो यह सारी ईद मुहर्रम हो जाए। उनकी अपनी जेबों में तो कुबेर का धन भरा हुआ है। बार-बार जेब से अपना ख़जाना निकालकर गिनते हैं और खुश होकर फिर रख लेते हैं।

महमूद गिनता है, एक-दो, दस-बारह। उसके पास बारह पैसे हैं। मोहसिन के पास एक, दो, तीन, आठ, नौ, पंद्रह पैसे हैं। इन्हीं अनगिनती पैसों में अनगिनती चीजें लाएँगे-खिलौने, मिठाइयाँ, बिगुल, गेंद और जाने क्या-क्या!

और सबसे ज़्यादा प्रसन्न है हामिद। वह चार-पाँच साल का ग़रीब-सूरत, दुबला-पतला लड़का, जिसका बाप गत वर्ष हैजे की भेंट हो गया और माँ न जाने क्यों पीली होती-होती एक दिन मर गई। किसी को पता न चला, क्या बीमारी है। कहती भी तो कौन सुनने वाला था। दिल पर जो बीतती थी, वह दिल ही में सहती और जब न सहा गया तो संसार से विदा हो गई।

अब हामिद अपनी बूढ़ी दादी अमीना की गोद में सोता है और उतना ही प्रसन्न है। उसके अब्बाजान रुपये कमाने गए हैं। बहुत-सी थैलियाँ लेकर आएँगे। अम्मीजान अल्लाहमियाँ के घर से उसके लिए बड़ी अच्छी-अच्छी चीजें लाने गई है, इसलिए हामिद प्रसन्न है। आशा तो बड़ी चीज है और फिर बच्चों की आशा! उनकी कल्पना तो राई का पर्वत बना लेती हैं।

हामिद के पाँव में जूते नहीं हैं, सिर पर एक पुरानी-धुरानी टोपी, जिसका गोटा काला पड़ गया है, फिर भी वह प्रसन्न है। जब उसके अब्बाजान थैलियाँ और अम्मीजान नियामतें लेकर आएँगी तो वह दिल के अरमान निकाल लेगा। तब देखेगा महमूद, मोहसिन, नूरे और सम्मी कहाँ से उतने पैसे निकालेंगे।

अभागिनी अमीना अपनी कोठरी में बैठी रो रही है। आज ईद का दिन और उसके घर में दाना नहीं। आज आबिद होता तो क्या इसी तरह ईद आती और चली जाती? इस अंधकार और निराशा में वह डूबी जा रही है। किसने बुलाया था इस निगौड़ी ईद को? इस घर में उसका काम नहीं, लेकिन हामिद! उसे किसी के मरने-जीने से क्या मतलब? उसके अंदर प्रकाश है, बाहर आशा। विपत्ति अपना सारा दलबल लेकर आए, हामिद की आनंद-भरी चितवन उसका विध्वंस कर देगी।

हामिद भीतर जाकर दादी से कहता है-तुम डरना नहीं अम्मा, मैं सबसे पहले जाऊँगा। बिलकुल न डरना।

गांव से मेला चला। और बच्चों के साथ हामिद भी जा रहा था। कभी सबके सब दौड़कर आगे निकल जाते। फिर किसी पेड़ के नीचे खड़े होकर साथ वालों का इंतजार करते। ये लोग क्यों इतना धीरे चल रहे हैं? हामिद के पैरों में तो जैसे पर लग गए हैं। वह कभी थक सकता है? शहर का दामन आ गया। सड़क के दोनों ओर अमीरों के बगीचे हैं। पक्की चारदीवारी बनी हुई है। पेड़ों में आम और लीचियाँ लगी हुई हैं। कभी-कभी कोई लड़का कंकड़ उठाकर आम पर निशाना लगाता है। माली अंदर से गाली देता हुआ निकलता है। लड़के वहाँ से एक फर्लांग पर हैं। खूब हँस रहे हैं। माली को कैसे उल्लू बनाया है!

अब बस्ती घनी होने लगी थी। ईदगाह जाने वालों की टोलियाँ नजर आने लगीं। एक से एक भड़कीले वस्त्र पहने हुए, कोई इक्के-ताँगे पर सवार, कोई मोटर पर, सभी इत्र में बसे, सभी के दिलों में उमंग।
ग्रामीणों का वह छोटा-सा दल, अपनी विपन्नता से बेखबर, संतोष और धैर्य में मगन चला जा रहा था। बच्चों के लिए नगर की सभी चीज़ें अनोखी थीं। जिस चीज़ की ओर ताकते, ताकते ही रह जाते। और पीछे से बार-बार हार्न की आवाज होने पर भी न चेतते। हामिद तो मोटर के नीचे जाते-जाते बचा।

सहसा ईदगाह नजर आया। ऊपर इमली के घने वृक्षों की छाया है। नीचे पक्का फर्श है, जिस पर जाजिम बिछा हुआ है और रोजेदारों की पंक्तियाँ एक के पीछे एक न जाने कहाँ तक चली गई हैं, पक्की जगत के नीचे तक, जहाँ जाजिम भी नहीं है। नए आने वाले आकर पीछे की कतार में खड़े हो जाते हैं। आगे जगह नहीं हैं। यहाँ कोई धन और पद नहीं देखता। इस्लाम की निगाह में सब बराबर हैं। इन ग्रामीणों ने भी वजू किया और पिछली पंक्ति में खड़े हो गए।

कितना सुंदर संचालन है, कितनी सुंदर व्यवस्था! लाखों सिर एक साथ सिजदे में झुक जाते हैं, फिर सब-के-सब एक साथ खड़े हो जाते हैं। एक साथ झुकते हैं और एक साथ घुटनों के बल बैठ जाते हैं। कई बार यही क्रिया होती है, जैसे बिजली की लाखों बत्तियाँ एक साथ प्रदीप्त हों और एक साथ बुझ जाएँ और यही क्रम चलता रहे। कितना अपूर्व दृश्य था, जिसकी सामूहिक क्रियाएँ, विस्तार और अनंतता हृदय को श्रद्धा, गर्व और आत्मानंद से भर देती थीं। मानों भ्रातृत्व का एक सूत्र इन समस्त आत्माओं को एक लड़ी में पिरोए हुए हैं।

नमाज खत्म हो गई है, लोग आपस में गले मिल रहे हैं। तब मिठाई और खिलौने की दुकान पर धावा होता है। ग्रामीणों का वह दल इस विषय में बालकों से कम उत्साही नहीं है। यह देखो, हिंडोला है। एक पैसा देकर जाओ। कभी आसमान पर जाते हुए मालूम होंगे, कभी जमीन पर गिरते हुए। चर्खी है, लकड़ी के हाथी, घोड़े, ऊँट, छड़ों से लटके हुए हैं। एक पैसा देकर बैठ जाओ और पच्चीस चक्करों का मजा लो। महमूद और मोहसिन, नूरे और सम्मी इन घोड़ों और ऊँटों पर बैठते हैं। हामिद दूर खड़ा है। तीन ही पैसे तो उसके पास हैं। अपने कोष का एक तिहाई, जरा-सा चक्कर खाने के लिए, वह नदीं दे सकता।

खिलौनों के बाद मिठाइयाँ आती हैं। किसी ने रेवड़ियाँ ली हैं, किसी ने गुलाब जामुन, किसी ने सोहन हलवा। मज़े से खा रहे हैं। हामिद बिरादरी से पृथक है। अभागे के पास तीन पैसे है। क्या नहीं कुछ लेकर खाता? ललचाई आँखों से सबकी और देखता है।

मिठाइयों के बाद कुछ दुकानें लोहे की चीज़ों की हैं, कुछ गिलट और कुछ नकली गहनों की। लड़कों के लिए यहाँ कोई आकर्षण न था। वह सब आगे बढ़ जाते हैं।

हामिद लोहे की दुकान पर रुक जाता है। कई चिमटे रखे हुए थे। उसे ख़याल आया, दादी के पास चिमटा नहीं है। तवे से रोटियाँ उतारती हैं, तो हाथ जल जाता है। अगर वह चिमटा ले जाकर दादी को दे दे, तो वह कितनी प्रसन्न होंगी!  फिर उनकी उँगलियाँ कभी न जलेंगी। घर में एक काम की चीज हो जाएगी। खिलौने से क्या फ़ायदा। व्यर्थ में पैसे ख़राब होते हैं। उसने दुकानदार से पूछा, यह चिमटा कितने का है?

दुकानदार ने उसकी ओर देखा और कोई आदमी साथ न देखकर कहा, ‘यह तुम्हारे काम का नहीं है जी’
‘बिकाऊ है कि नहीं?’
‘बिकाऊ क्यों नहीं है? और यहाँ क्यों लाद लाए हैं?’
‘तो बताते क्यों नहीं, कै पैसे का है?’
‘छः पैसे लगेंगे?’
हामिद का दिल बैठ गया। ‘ठीक-ठीक बताओ।’
‘ठीक-ठाक पाँच पैसे लगेंगे, लेना हो लो, नहीं तो चलते बनो’
हामिद ने कलेजा मजबूत करके कहा-तीन पैसे लोगे?
यह कहता हुआ वह आगे बढ़ गया कि दुकानदार की घुड़कियाँ न सुने। लेकिन दुकानदार ने घुड़कियाँ नहीं दीं। बुलाकर चिमटा दे दिया। हामिद ने उसे इस तरह कंधे पर रखा, मानो बंदूक है और शान से अकड़ता हुआ संगियों के पास आया।

ग्यारह बजे सारे गाँव में हलचल मच गई। मेले वाले आ गए। मोहसिन की छोटी बहन ने दौड़कर भिश्ती उसके हाथ से छीन लिया और मारे खुशी के जो उछली, तो मियाँ भिश्ती नीचे आ गए और सुरलोक सिधारे। इस पर भाई-बहन में मार-पीट हुई। दोनों खूब रोए। उनकी अम्मां शोर सुनकर बिगड़ी और दोनों को ऊपर से दो-दो चांटे और लगाए।

अब मियाँ हामिद का हाल सुनिए। अमीना उसकी आवाज़ सुनते ही दौड़ी और उसे गोद में उठाकर प्यार करने लगी। सहजा उसके हाथ में चिमटा देखकर वह चौंकी।
‘यह चिमटा कहाँ था?’
‘मैंने मोल लिया है।’
‘कै पैसे में?’
‘तीन पैसे दिए।’
अमीना ने छाती पीट ली। यह कैसा बेसमझ लड़का है कि दोपहर हुआ, कुछ खाया, न पिया। लाया क्या, चिमटा। सारे मेले में तुझे और कोई चीज़ न मिली जो यह लोहे का चिमटा उठा लाया?

हामिद ने अपराधी-भाव से कहा-तुम्हारी ऊँगलियाँ तवे से जल जाती थीं, इसलिए मैंने इसे लिया।

बुढ़िया का क्रोध तुरंत स्नेह में बदल गया, और स्नेह भी वह नहीं, जो प्रगल्भ होता है और अपनी सारी कसक शब्दों में बिखेर देता है। यह मूक स्नेह था, खूब ठोस, रस और स्वाद से भरा हुआ। बच्चे में कितना त्याग, कितना सदभाव और कितना विवेक है!  दूसरों को खिलौना लेते और मिठाई खाते देखकर इसका मन कितना ललचाया होगा!  इतना जब्त इससे हुआ कैसे? वहाँ भी इसे अपनी बुढ़िया दादी की याद बनी रही। अमीना का मन गदगद हो गया।

और अब एक बड़ी विचित्र बात हुई। हामिद के इस चिमटे से भी विचित्र। बच्चे हामिद ने बूढ़े हामिद का पार्ट खेला था। बूढ़िया अमीना बालिका अमीना बन गईं। वह रोने लगी। दामन फैलाकर हामिद को दुआएँ देती जाती थी और आँसू की बड़ी-बड़ी बूँदें गिराती जाती थी। हामिद इसका रहस्य क्या समझता।

प्रेमचंद / Premchand

'प्रेमचंद' - एक तैलचित्र

‘प्रेमचंद’ – एक तैलचित्र

‘राम Particles’ – कण कण में कोई है

श्री राम की भक्ति में ये पंक्तियाँ उनकी ही कृपा से सहर्ष प्रस्तुत कर रहा हूँ !
ये अंश समय समय पर अपने फेसबुक वाल पर भी शेयर करता रहा हूँ !
अलग अलग रूप में ये अंश मन में राम – चिंतन के किसी न किसी क्रम से जुड़ कर आए हैं ! और जीवन की आपा – धापी में लगातार ‘राम क्षण’ आ रहे हैं इसीलिए मैं इनको राम – कृपा मानता हूँ ! श्री राम में मन लगा रहे और  मैं लिखता रहूँ , यही सपना है …

*

मेरा मन जैसे श्री रामचंद्र जी का वन …

*

पानी में अपनी परछाई देख कर श्रवन ठिठक गया ! लगा पानी पर कुछ लिखा है ! शांत नीले पानी में घड़ा डालने से पहले अपनी परछाई के चेहरे को पढने लगा ! तभी एक पत्ता डार से बिछुड़ के पानी पर गिरा और  तरंग बनने लगा गोल…गोल…गोल…! वो ये सब देख रहा था ! सहसा लगा जैसे कोई तेज नुकीली चीज छाती चीर कर कलेजे के आर पार हो गयी… ! श्रवन कुमार का घड़ा पानी में डूबने लगा डूब…गुडूब डूब…गुडूब…

*

घुप्प अँधेरे में वो उतरता चला गया …पानी से भरी ये कैसी गुफा है ? उसने सोचा ! उसका शरीर तालाब में औंधे मुँह गिर पड़ा था ! …छपाक !!  ये आवाज़ जब माता पिता ने सुना तो मन में आशंका के ढेर लग गए ! दशरथ को ये तो पता चल गया था की उनका निशाना चूक गया है पर अभी ये पता चलना बाकी था की वो खुद दुर्भाग्य का शिकार हो गए हैं ! वो वहीँ खड़े – खड़े पत्थर के पेड़ बन गए … और अंधे माता पिता तालाब की तरफ बिलखते हुए रेंगने लगे…

*

आवाज़ की प्रतिक्रिया चारो और हुई ! मेघ गर्ज़ना सी आवाज़ किसी चीज़ के टूटने की आवाज़ कैसे हो सकती है ? फिर भी सब दौड़ पड़े ! रसोइया अभिषेक के लिए दही ले के भागा … पण्डितजी दूब नोच भाग चले … माली ताज़ा फूल ले के भागा … घोड़े हिनहिनाने लगे … सब वर को देखना चाह रहे थे ! सबका दिल कह रहा था ये धनुष के टूटने की ही आवाज़ थी ! सीता जब स्वयंवर का हार ले के श्री रामचंद्र जी की और बढ़ी तो मिथिलावासी रो रहे थे

*

सीता के वियोग में सबसे पहले टूटा धनुष रोया था

*

वो विदाई का क्षण था ! सबकी आँखों पर पानी का पर्दा गिर चूका था और सबकुछ झिलमिला रहा था ! उनके महल के चौखट को लांघते ही दशरथ मूर्छित हो कर गिर पड़े… वन के लिए निकला पहला कदम सबको भारी लग रहा था ! उनके नंगे पाँव अभी महल में ही थे पर कल्पनाओं में वन के कांटे सबको चुभने लगे …

*

रात भर कोई सो न सका ! सुबह सुबह श्री राम वन के लिए निकल पड़े ! लगा अयोध्या नगर को ही वनवास मिला है ! सब साथ थे ! सब चल रहे थे ! सब रो रहे थे ! भीड़ में वो धोबी भी था…हाँ, वही ! बेसुध रो रहा था…

*

वन जाते हुए श्री राम ने कहा  “अब आप लोगों का नाथ भरत है ”

*

मन और वन एक थे, हर तरफ उलझन और हर तरफ रास्ता …तीनो मौन थे !

*

वन में जिस रास्ते पर हंस बैठे मोती चुन रहे थे उसी रास्ते पर कौवे मरे चूहे के लिए लड़ रहे थे …! सबका रास्ता एक था ! वे तीनो भी उसी रास्ते पर चल रहे थे …

*

अनदेखे अनजाने रास्तों पर ही शबरी मिलती है, प्रेम विश्वास और भक्ति के जूठे बेर मिलते हैं …

*

मीठे फलों के बीच दुसरे स्वाद नहीं होते तो शबरी क्या चखती …

*

चारो बत्तख सबसे धीरे चल रहे थे इसीलिए सबके पीछे थे ! उनकी मुसीबत ख़त्म ही नहीं होती थी ! कभी जंगली कुत्ते तो कभी लम्बे घास और कभी तेज़ धार वाली जंगली नदी ! फिर भी चारों बत्तख लगातार चल पा रहे थे ! वो पैदल चलने वालों में सबसे पीछे थे ! कई गाँव के सैकड़ों नागरिक उनके आगे थे ! सबसे आगे वो तीनो थे जिनको वनवास मिला था ! वही सबसे आगे थे जिनके पीछे सब चल रहे थे और वही चारो बत्तख के साथ सबसे पीछे भी ! देखने वालों ने उन्हें सबके साथ चलते हुए एक साथ देखा था !
बूढ़े, बच्चे, जवान, स्त्री – पुरुष, पशु, पक्षी सब भीड़ में और सब अकेले … श्री राम सबके साथ एक साथ थे … !

*

सीता – राम का भ्रमण ही जीवन था ! लक्ष्मण चाहते थे दोनों बस कुटिया में ही रहें और जंगल का कष्ट न सहें ! पानी के साथ चरण पर लक्षमण के आंसू जब भी गिरते राम को ठंढे पानी के ढेर में भी उन दो बूंदों की गर्माहट महसूस होती ! … वनवास का असली चेहरा वो चार पाँव ही थे जिन्हें लक्ष्मण रोज़ धोते थे…

*

खड़ाऊँ देने के बाद राम ने कभी अपने पाँव की तरफ नहीं देखा ! लक्ष्मण जब उन्हें पखारते तो लगता राम यहाँ वन में है और पाँव ले कर भरत अयोध्या चले गए …

*

उर्मिला और भरत एक दूसरे का दुःख कभी आँख मिला के देख नहीं सके …

*

लगता कोई चल रहा है ! भरत की नींद टूट जाती ! दौड़ के देखता …सिंघासन पर खडाऊँ जस का तस रखा है ! फिर ये खडाऊँ के पदचाप की आवाज़ कैसी थी…खट… खट… खट…

*

वन में मन का तन से ठन जाता है ! क्षण भर मन का तन पर वन में वश नहीं रहता ! पल में जल में पल में नभ में …मन वन में रम नहीं पाता ! जब सब सोते हैं तब तीनो रोते हैं …

*

आसमान तारों से भरा था ! इतने तारों को देख के उसे लगा वो अकेली कहाँ ? उर्मिला जाग रही थी ! महल अब छोटा सा वन था …

*

तीनो एक दूसरे के बहुत पास आ कर बैठ गए ! रात की स्तब्धता में सिर्फ उनकी सासें चल रही थी ! बाघों की गर्जना से जंगल भरा था ! जंगल का ये खाली मैदान ही तीनो के लिए सबसे सुरक्षित था ! हमला करने वाला कोई भी जानवर चांदनी में साफ़ दिख सकता था ! किसी भी खतरे का सामना करने के लिए दोनों भाइयों ने अपने धनुष पर वाण चढ़ा रखा था ! रात की नीरवता में पता नहीं किसकी उपस्थिति से जंगल में सब जानवर बेकल थे ! वन राममय हो चला था ! चाँद उतर के सीता के भाले की नोक पर चमकने लगा ! भाले पर चाँद की परछाई देख कर सीता मुस्कुरा दी ! राम को वो हर रूप में पहचानती हैं …

*

रथ – गाड़ी का पहिया ठीक करा के कोई चढ़ रहा था तो किसी का भाला नदी के कादो में गंथा हुआ था, हरे घास की गठरी की रस्सी में बकरी की टांग फंस गयी थी और बकरी मेमिया रही थी, कोई उसे देख नहीं रहा था ! सब तरफ अफरा तफरी मची थी और नाँव काफी हिल रही थी ! नाँव नहीं खुलने की वज़ह से बच्चे रो रहे थे ! भीड़ बढ़ रही थी ! कीर्तनियों का भी एक दल था जिसके झाल मंजीरे खनखना रहे थे !  मुँह में खेवैया से बचे शुल्क का मुद्रा दबाये और हाथ में कचरी का दौना पकडे वो तेजी से नाँव के सबसे पीछे और मस्तूल के बगल में सबसे ऊँची जगह पर जा बैठा था ! नाव पर सब लोग उचक के खड़े हो गये थे और कुछ देखने लगे थे ! उसने भी खड़े होकर देखा ! केवट श्री राम चन्द्र जी का पाँव पखार रहा है … रो रहा है और कुछ कहे भी जा रहा है ! पीछे से हर्ष ध्वनि में कुछ सुनायी नहीं दिया ! श्री राम को अपने बीच देख के सब अवाक थे ! यातायात की आम सवारी में सब राम राज्य के नागरिक थे ! मस्तूल के ऊपर सूर्यवंशी पताका लहरा रहा था फड…फड… ! फड…फड…!

*

पाँव पखार के सबसे पहले उसने चरणामृत की थाल को उठा के सर से लगाया ! फिर अंजुरी भर चरणामृत अपने ललाट पर मला ! चरणामृत का जल ललाट को भिगोते हुए आँखों को धो गया ! आँखों से बह रही अश्रुधार चरणामृत से मिल कर गाल पर लुढ़कती चली गई ! टप्प् – टप्प् अश्रु बूंदें गर्दन पर चूने लगीं ! बदन सिहर गया ! सहसा जैसे किसी ने गुदगुदा दिया हो ! सुख के चरम पर केवट एक साथ हंस और रो रहा था ! ये सब एक क्षण में हो गया ! नाँव के पास खड़े राम, चरणो पर बैठे केवट को मौन देख रहे थे …

*

गंभीर तर्क दे डाला था केवट ने … सन्नाटा था ! गीले पाँव वाले मन से बहुत दूर तक चप्पू की छप – छप सुनते रहे श्री राम ! मस्तूल की ची.. चों…

*

केवट अँधा हो गया है इस बात से नाँव में हलचल बढ़ गयी ! ‘ अभी तो प्रभु के पाँव पखार रहा था फिर अँधा कब हो गया ?’ सब केवट की तरफ देखने लगे ! केवट की बंद आँखों से अश्रु की धार बह रही थी ! आँखों में प्रभु झीलमिल झीलमिल कर रहे थे ! केवट का रोम – रोम थर – थर काँप रहा था ! श्री राम सबके ह्रदय में हिलोर लेने लगे ! नाँव नदी में झूम रही थी ! लोग गा रहे थे ! केवट प्रेम में अँधा हो गया था ! अश्रु धार में नाँव बह रही थी ! प्रभु सबको पार लिए जा रहे थे …

*

‘अरे ये तो श्री राम हैं’ बगल वाली नाव के नाविक ने हुलस के कहा ! यात्रियों में हलचल मच गयी ! क्या बूढ़े क्या बच्चे औरत मर्द सब एक साथ खड़े हो गए ! सबके एक साथ हिलने डुलने से नाव का ताल पानी से टूटने लगा ! नाव डगमगाने लगी ! केवट ने सबको शांत और स्थिर किया ! नाव पर बैठे बैठे ही सभी ने प्रभु को प्रणाम किया ! सीता लजाई हुई थी और हल्की घूंघट में नज़रें नीची कर के बैठी थीं ! उनको नाव तल पर फूल अक्षत पानी के छीटें ही दिख रहे थे ! सीता राम और लक्ष्मण को साथ देख कर पुष्प वर्षा का मौका कौन चूकता ? जिसके हाथ कुछ नहीं था वो नदी का निर्मल जल ही छिड़क रहे थे ! लक्ष्मण मुस्कुरा रहे थे और अविरल मौन ख़ुशी से रो रहे थे ! ‘ …कभी – कभी प्रभु आपके नाव में नहीं होते,वो बगल वाली नाव में होते हैं ‘ …किर्तनिया यही गा रहा था, दोनों केवट का चप्पू ताल से ताल मिला रहे थे ! छोटी – बड़ी सभी नाव साथ – साथ उन्मुक्त लहरों पर मंद मंद हवा के साथ हिलोर लेने लगे ! आँखें मूंदे सब आनंद में डूब रहे थे और किनारा दिखने लगा था…

*

नाव मझधार में था ! केवट शांत था ! उसे पता था वो तो बस चप्पू चलाने का अभिनय कर रहा है असली खेवैया तो बैठे मुस्कुरा रहे हैं ! उधर लक्ष्मण ने सुना राम सीता से कह रहे थे केवट इतना कर्मठ हो तो भव सागर भी पार करा सकता है ये तो बस नदी है…

*

हम जैसे कईयों की नाव छूटी थी … घाट छोड़ते हुए रामचंद्र जी ने खुद देखा था …

*

पाँव पखार के पीने के बाद भी केवट की छाती को चीरती रही रामचन्द्र की नाव …

*

कभी कभी फल इतने मीठे होते हैं… लगता है किसी ने चख के हमें दिया हो !

*

उर्मिला की आँखें भरी हैं जैसे आसमान के सितारे पानी में डूब गए हो ! उर्मिला की रात तो कट जाएगी पर साथ में आज फिर थोड़ा सा ह्रदय भी कट जायेगा …

*

रात्रि की स्तब्धता में लक्ष्मण ने देखा पूरे आकाश में उर्मिला झिलमिला रही थी  …

*

दिल का दर्द उसकी नाक से लहू बन के बह रहा था …वो रो रही थी …किसी ने नाक नहीं उसका दिल काटा था…! उसकी एक जिद्द थी जो वनवासी समझ नहीं सके थे ! सूखे पत्तों पर गर्म लाल खून नहीं किसी का दर्प चू रहा था …टप्प… टप्प… टप्प …! हा, वो दर्पनखा थी पर अब केवल सूर्पनखा ! उसकी रुदन से जंगल की वेदना और सघन हो गयी थी…

*

सूर्पनखा का कटा हुआ नाक खून से लथ – पथ ज़मीन पर पड़ा रहा ! धीरे धीरे जंगल की लाल चींटियों ने उसे मिट्टी में मिला दिया ..

*

पंक्षियों का कलरव …जल की शीतलता…मंद मंद हवा…आकाश का प्रकाश… मायावी ने बहुत धीरे धीरे महीन जाल बिछाया था ! पाँचों इन्द्री सब टटोल ही रहीं थी और मन सुनहरे हिरण के पीछे भाग चला…

*

आप चाहे जंगल में ही क्यों न हों… सुनहरी चीज़ मन मोहती है ! …वो तो जीता जागता हिरण था !

*

ज़मीन को चीरती हुई कोई नुकीली सी चीज जब दल की ओर बढ़ी तो चारो तरफ अफरा तफरी मच गयी ! हल के फ़ाल की तरह वो जमी मिटटी को खोदती हुई आगे बढ़ गयी ! समतल ज़मीन पर अचानक अब एक खाई सी बन गयी थी और दोनों तरफ भुरभुरी मिटटी की एक छोटी सी पहाड़ी श्रृंखला ! दल बिखर गया ! फल के छोटे छोटे कण बिखर गए ! कुछ तो मिटटी में भी मिल गए ! कई चींटियों के हाथ पाँव मिटटी में दब गए थे ! सब इतनी जल्दी जल्दी हुआ की चींटियों को समझ में ही नहीं आया ! मिश्रीकंद के कण के साथ चींटियों का पूरा दल पंक्तिबद्ध चल रहा था ! आज बाम्बी में मीठे मिश्रीकंद का भोज होना था ! अभी तक इस ज़मीन पर वो बेफिक्र घूमते थे, यहाँ ऐसा कभी नहीं हुआ था ! लगा किसी ने ज़मीन को चीर दिया था ! थोड़ी देर बाद दल मिल के किसी तरह खुदे हुए ज़मीन को लांघ रहा था ! चीटियों को क्या पता कि लक्ष्मण ने ये लकीर क्यों खींची थी …

*

फल भी, ओस भी, पंखुड़ी भी, पत्ते भी … चाहे जो देना पड़े पर वो किसी साधू को खाली हाथ नहीं लौटने देती …सब ये जानते थे और वो भी.

*
आसमान कंटीला क्यों है ? आज हवा में ये धार कैसा ? सूरज घने बादल से निकल क्यों नहीं रहे ? ये कैसे भंवर उठ रहे है ? जटायु यही सब सोच के वेग से निकले… साएँ…साएँ …

*

अपने कटे हुए चौड़े पंख से दूर निस्तेज पड़े खून से लथ – पथ जटायु ज़मीन पर कराह रहे थे … सब याद आ रहा था ! बचपन की बात है ! उड़ने की कोशिश में खोह से सीधे ज़मीन पर गिर गए थे जटायु ! पाँखों में चोट आ गयी थी, वो हिल नहीं पा रहे थे ! लाल चीटियों का एक विशाल झुण्ड घेरने लगा था शिशु जटायु को ! आँख बंद कर के जटायु ने अपनी माँ को याद किया ! माता भी जटायु को ढूंढ रही थी ! एक पल में आसमान को चीरते हुए माता आ गयीं और मज़बूत पंजों ने जटायु को फिर से पहाड़ी की चोटी पर खोह में पहुंचा दिया था … आँख बंद हुई जा रही थीं और पांख शिथिल थे ! गर्म लहू गर्दन से होकर चेहरे पर फ़ैल गया था ! आँख उठा कर जब जटायु ने आकाश की ओर देखा तो लगा माता को कोई लिए जा रहा है … जटायु उन्हें बचा नहीं पाये …खून और बेबसी के आँसू से जटायु का चेहरा लाल हो गया था … काले बादलों ने आसमान को ढक लिया … लाल चीटियों के विशाल फ़ौज की पहली पंक्ति कटे पांख की और बढ़ चले थे …जटायु को मांस भक्षी लाल चीटियों से एक लड़ाई और लड़नी थी, उसे ज़िंदा रहना था

*

उन्होंने जब उसे अपने हाथ में उठा कर गोद में रखा तो उस एक पल के लिए उसने अपनी आँखें मूँद ली ! लगा किसी ने पीठ पर से जन्म जन्म का बोझ उतार दिया हो ! उँगलियों का स्पर्श होता ही है ऐसा ! वो सहसा उछली ! उफ़ ये सिहरन है या उँगलियों के निशान की तीन धारी …! गिलहरी की पीठ अब तक सिहर रही है !

*

वो सरसराता हुआ तेजी से उनके पैर से लिपट गया और नेवले की ओर फ़न कर के फुफकारने लगा ! उसकी साँसे धौंकनी की तरह चल रही थी … उसे इसकी भनक भी नहीं लगी की वो किसी जीवित मनुष्य के पाँव से लिपटा है ! नेवला के मुंह खून लग चूका था ! वो खीं खीं कर रहा था और अपने दाँत कीटकिटा कर नाग पर आखरी दाव की तैयारी कर रहा था ! नाग डर और क्रोध से धू धू कर के जल रहा था ! उसके फुफकार में ज्वाला थी ! नेवला का मन नाग पढ़ चूका था ! अगर उसने आखरी हमला सटीक नहीं किया तो जान जा सकती थी ! हवा में विष फ़ैल चूका था ! रामचंद्र जी शिला खंड पर बैठे मंद मंद वायु को अपने फेफरों में खींच खींच कर भर रहे थे ! तभी उनको लगा उनके पाँव एक गर्म और ठंढी रस्सी से कोई बाँध रहा है ! उन्होंने बड़ी सतर्क निगाह से सब देखा ! सामने जीवन का विसात बिछा था ! जंगल का ये क्षण लगा उनके किसी मूक सहमती की प्रतीक्षा में मौन होकर ठिठक गया है ! नेवला ने अपने पूरी शक्ति से उछल कर नाग का गर्दन दांत से दबोचना चाहा पर नाग ने भी पूरे वेग से अपने कंठ की शक्ति लगा के विष की पोटली से सबसे ज्यादा ज़हर दांतों में भर लिया ! दोनों तरफ आर या पार का दाव था … नाग का फन और नेवला दोनों हवा में थे … सहसा एक हाथ ने नाग को नेवले की सीध से खींच लिया ! नेवला मुंह के बल धाराशाही हो गया ! नाग के फन से पिचकारी की तरह नीला विष अनायास हवा में लहरा गया ! ‘हे भगवान्’ अपने मुंह पर से विष पोंछते हुए बुदबुदा रहे थे श्री राम !

*

रौशनी का प्रकाश बिम्ब जो पर्न कुटिया में ज़मीन पर आसमान से धँसा जा रहा था सीता का ध्यान अपनी और खींच रहा था ! पिघले सोने की मोटी सी एक पीली सुनहरी गोल धार छत से धरती पर धंसी जा रही थी ! रौशनी की धार में कण चमक रहे थे … अनगिनत अदृश्य कण ! कण कण में मानो ये उनका ही संदेश बिम्ब था जो रावण के वाटिका के एक अँधेरे बंद कुटिया में सेंध मार चूका था ! लंका की किसी वाटिका में कैद अकेली सीता रौशनी के वृत्त को देख रही थी ! मन जहाँ पिघलता है वहीँ फ़ैल जाता है …

*

आज किस घाट लगी है देह की नॉव ? सुनहरी किरणों पर बिठा कर कौन रौशनी की नदी पार करा रहा है ? इतने सालों बाद केवट नही भूल पाता है वो क्षण जब उसने उनके दोनों पाँव पखारे थे और अपने नॉव से नदी पार कराया था … आह ! आज फिर से उसने उन चरणो पर अपनी आखरी सांस रख दी है …

*

‘लंका’ त्यागने के लिए हर घड़ी शुभ घड़ी है…

*

वो उड़ चले ! उनकी चौड़ी भुजा पर दोनों भाई लहरा रहे थे ! ये सबसे जरुरी काम था जो वो कर रहे थे ! नीचे असंख्य वानर सेना के हर्ष के चीत्कार से वातावरण गूँज रहा था ! उनके बलशाली कन्धों पर बैठे राम शोर में सिर्फ अपने पाँव से उनकी छाती की उल्लास भरी धड़कन महसूस कर रहे थे …धक्… धक्… धक्… नीचे धरती छोटी हो रही थी … नमन की गूँज अन्तरिक्ष में तैर रहा था ! भक्त और भगवान् को नमन ! नमन !! नमन !!!

*

वो कुटिया वहीँ थी ! वन के बनस्पतियों ने उस पर अपना डेरा डाल लिया था ! आते जाते मौसम ने वो रेखा भी मिटा दिया था जो वहां खींची गयी थी ! अयोध्या लौटते हुए पुष्पक विमान से सीता देख रही थी और सोच रही थीं क्या मायावी था वो …

*

चौदह दिन में चाँद चढ़ जाता और चौदह दिन में ही फिर घट जाता … चौदह साल तक ये चलता रहा … फिर वो घर लौट आए ! उर्मिला ने उम्र भर फिर कभी अपनी नज़र उन पर से हटाई नहीं…

*

पग पग पर दीप जल रहा था ! नगर रौशनी में डूबा था ! पुष्पक विमान पर से अयोध्या नगर हीरे का ढेर लग रहा था ! पुष्पक के उतरते ही लोगों ने उन्हें घेर लिया ! गोद के शिशु अब तरुण हो चुके थे ! एक युग से ज्यादा का अंतराल हो चूका था ! अयोध्या की भूमि पर बहुत कुछ बीत चूका था ! राम को पिता की याद आ गयी और वो मौन हो गए … एक अंजुली अन्धकार राम को अपने ही अन्दर लग रहा था … किसी ने देखा हो या नहीं पर राम ने देखा हर दिए तले अँधेरा था … राम के अंदर एक बिजली कौंध गयी और वो ये सोचने लगे ये शाश्वत अन्धकार मनुष्य के अंदर से कैसे मिटेगा ? वो इतने अन्धकार से कैसे लड़ेंगे ? वो मौन हो कर खिड़की से देखने लगे ! नगर में असंख्य दीप जले थे …

550244_10150781011562658_805222964_n

Parellel Cut – सत्यमेव जयते

220px-Emblem_of_India.svg_ ‘सत्यमेव जयते’ के एपिसोड देखता हूँ और दुसरे ब्लोग्स पर अपने मित्रों की टिप्पणियां भी पढता हूँ ! ये मेरे व्यग्तिगत विचार हैं या देखे गए हर एपिसोड पर मेरी टिप्पणी भी कह सकते हैं ! Parallel Cut में इसे मैंने सत्यमेव जयते के स्लोगन के तौर पर भी लिखा है ! सभी स्लोगन उस दिन का मेरा फेसबुक स्टेटस भी रह चूका है !

Parallel Cuts

अरे आप तो पहले एपीसोड में ही रो दिए…

– cut to

चलिए आप ने बताया हम मान लेते हैं ! पर अब इसके बाद …?

– cut to

ट्रिंग… ट्रिंग… ट्रिंग… !

दस (1 0 ) नौ ( 9 ) आठ ( 8 )

बच्चों रखो इसको याद !

ट्रिंग… ट्रिंग… ट्रिंग…

– cut to

‘सत्यमेव जयते’ सिक्के के एक पहलु पर लिखा होता है …और हर सिक्के के दो पहलु होते हैं !

– cut to

पता नहीं किस बात पर आमिर के साथ शर्म से रोना पड़े इस बार…

– cut to

‘दुल्हन ही दहेज़ है’ ये स्लोगन भी एक साजिश ही है ! दुल्हन के साथ दहेज़ शब्द का इस्तेमाल अज्ञानता है !

– cut to

अपना health पराया wealth !

– cut to

संडे – मेव – जयेते !

– cut to

सीढ़ी हो तो रेम्प हो ! … चाहे अपना ही set  क्यों न हो ?

– cut to

खाएँ ‘सत्यमेव जयते’ के डंडे …संडे के संडे !

– cut to

खाएं या न खाएं … संडे के संडे … सत्यमेव जयते के डंडे ?

– cut to

जात न पूछो नागरिक की !

– cut to

रोते रहते सत्यमेव जयते…

– cut to

काश मेरा भी कोई ‘जन कल्याण सहयोगी’ होता जो मेरे ‘सत्य’ के लिए लड़ता !

– cut to

सत्यमेव जयेते ‘चित’ हो गया रूपया ‘पट’ हो गया !

– cut to

सत्य के पूछ – ताछ की लड़ाई आज समाप्त हो जाएगी …

– cut to

बाहर से लोग आते रहे, बताते रहे, सिसकते रहे ! लगा अब लडेगा… अब लडेगा …बाहर निकलेगा सबको धराशायी कर देगा, हीरो जो है ! पर आज पता चला की करार सिर्फ बात करने का था …उकसाने का था, अंदर ही स्टूडियो में ! शब्द दिए गए थे उनको बोलना भर था ! बैक – ग्राउंड में संगीत बजा, एडिटिंग हुई, क्लोजअप्स कटे और आँखें रो दीं ! वेब साईट बना चर्चा हुई ! ब्लॉगिंग की गयी, ट्वीट हुआ स्टेटस बना और आज करार ख़त्म हो गया ! लीजिये सत्य की लड़ाई तक पहुँचते पहुँचते प्रोग्राम ही खत्म हो गया ! सत्य की जीत हुई या नहीं क्या पता ? पर आज ‘सत्यमेव जयते’ के भी पार हो गए हम ! कहिये अब नया ‘प्रोग्राम’ क्या हो ? एक ‘नयी शुरुआत’… पार्ट टू -‘सहयोग मेव दयेते’ ?

to be continued… ?

Satyamev-Jayathe

अन्ना की अंतड़ी बोल रही है

अन्ना की अंतड़ी बोल रही है
गर्र – गुर्र , गर्र – गुर्र , गर्र – गुर्र , गर्र – गुर्र

देश की गठरी खोल रही है
गुड – गुड, गुड – गुड, गुड – गुड, गुड – गुड

अंजर – पंजर, जंतर – मंतर
अंदर – अंदर, अंदर – अंदर
जंतर – मंतर, जंतर – मंतर
बाहर – बाहर, बाहर – बाहर
अंजर – पंजर, जंतर – मंतर

अनशन – फंक्शन , अनशन – फंक्शन
अनशन – फंक्शन , अनशन – फंक्शन

अन्ना की अंतड़ी बोल रही है
गर्र – गुर्र , गर्र – गुर्र , गर्र – गुर्र , गर्र – गुर्र
देश की गठरी खोल रही है
गुड – गुड, गुड – गुड, गुड – गुड, गुड – गुड

किल – बिल, किल – बिल,
बिल – बिल, बिल – बिल,
टिम – टीम, टिम – टीम,
टीम – टीम, टीम – टीम,

जा – जा, जा – जा,
बाबा – बाबा, बाबा – बाबा

आ – जा, आ – जा,
वाह – वाह, वाह – वाह,
बा – बा, बा – बा, बा -बा, बा -बा

टोपी – सीधी, टोपी – सीधी,
सिद्धि – सिद्धि, टोपी – सिद्धि,

अन्ना की अंतड़ी बोल रही है
गर्र – गुर्र , गर्र – गुर्र ,
देश की गठरी खोल रही है
गुड – गुड, गुड – गुड,

जन का राजी, जनता राजी – जन का राजी, जनता राजी
अन्न ना – अन्न ना, अन्न ना – अन्न ना

कर अन्न – सन्न, कर अप – सन्न, कर संसोधन – कर संसोधन
ठन – ठन, ठन – ठन, ठन – ठन, ठन – ठन
अन्न – सन्न, अन्न – सन्न, अन्न – सन्न, अन्न – सन्न
कर अप – सन्न, कर अप – सन्न,
अन्न – संसोधन, सन्न – संसोधन,
ठन – ठन, ठन – ठन, ठन – ठन, ठन – ठन

अन्ना की अंतड़ी बोल रही है
गर्र – गुर्र , गर्र – गुर्र ,

देश की गठरी खोल रही है
गुड – गुड, गुड – गुड

Funny-amul-ad-over-lokpal-movement-by-anna-hazare

कट टू –

जितना वक़्त ‘कट टु -‘ पढने में लगता है
उतना ही वक़्त ब्रह्माण्ड को छालांगने में
भूखे का पेट भरने में
लड़की को नंगा करने में
किसी रोते हुए बच्चे को हंसाने में
अंडे को चूजा बनाने में
भाप को फिर से पानी बनाने में
और
आदम हव्वा को सेब खाने में लगता है…!

कट टू –
बच्चा !

और बच्चे को सीधा
माँ के नौ महीने के गर्भ संसार,
ममता की छाँव से निकाल कर
एक ही कट में
चक्रव्यूह के आखरी दरवाजे पर पटक देता है –
‘कट टू -‘

घोसले में सांप घुस जाता है
मछली अंगूठी खा जाती है
घर बस जाता है
सत्ता बँट जाती है
दुश्मन मर जाता है
सूरज उगता है
बिछड़े भाई मिल जाते हैं
पिंजरा टूट जाता है
पंछी लौट आते हैं
परदे पर संसार रच देते हैं ये दो शब्द

कट टू –
इश्वर के वो दो हाथ हैं
जिनको अकसर हम भूल जाते हैं !

cut to – my new blog

कई बार कई रूप में ब्लॉग लिखने की शुरुआत की है … कई कारणों से असफल रहा …जो ब्लॉग लिखते हैं वो उन कारणों से परिचित भी होंगे… आलस्य के साथ साथ तकनिकी दांव – पेंच उनमे से एक है ! मै भी कहाँ हार मानने वाला हूँ ?…अब ये मेरा नया ब्लॉग है ! फिर से एक नयी शुरुआत !
इसके लिए ललित भाई को बहुत बहुत धन्यवाद उन्होंने इस ब्लॉग को setup करने में बड़ी मदद की है ! वो प्रेरित करने वाले कई ब्लोग्स चलाते हैं और कविता कोष के जनक हैं !
दोस्तों आशा है स्थाई तौर पर लगातार लिखने की कोशिश इस बार सफल होगी !